prashant vyas's Profile

3653
Points

Questions
19

Answers
123

  • Asked on December 5, 2018 in विज्ञान (Science).

    क्या पृथ्वी शेषनाग पर टिकी है-

    भारत एक धार्मिक देश है जहा प्राचीन काल से ही लोगों का यही मानना है की हमारी पृथ्वी शेषनाग के फन पर टिकी है जिसके कारण पृथ्वी स्थिर है परन्तु इसके विपरीत कुछ लोगों का यह भी मानते है की ऐसा कुछ नहीं होता, वे समझते है की पृथ्वी अन्तरिक्षीय कारणों से एक जगह पर स्थिर है|

    पृथ्वी के शेषनाग पर टिके होने के कथन को हम 2 प्रकार की द्रष्टि से देख सकते है-

    1.      आस्था, पुराणों तथा धार्मिक ग्रंथो की द्रष्टि से-

    इस कथन का वर्णन महाभारत के आदिपर्व में मिलता है, जहा ग्रंथो में यह बताया गया है की भगवान  ब्रह्मा के 6 मानस पुत्र थे जिनमे से एक ‘मरीचि’ थे, उन्होंने अपनी इच्छा से कश्यप नामक प्रजापति पुत्र उत्पन्न किया। कश्यप ने दक्ष प्रजापति की 17 पुत्रियों से विवाह किया। उनमें से एक का नाम कद्रू था जिनसे 1000 बलशाली नाग पैदा हुए जिसमें सबसे बड़े भगवान् शेषनाग थे।

    ईश्वर की प्राप्ति कैसे होती है?

    महार्षि कश्यप की एक और पत्नी जिनका नाम विनता था, एक बार विनता और कद्रू दोनों विचरण कर रहे थे, तभी उन्हें दूर एक घोडा दिखाई दिया, कद्रू ने कहा की यह घोडा सफ़ेद है लेकिन इसकी पूछ काली है परन्तु विनता के कहा की पूरा घोडा सफेद है, इस बात को लेकर दोनों में शर्त लगी की जो हारा वो दुसरे की दासी बनेगी, दोनों में घोड़े को देखना अगले दिन तय हुआ|

    घर आकर कद्रू ने शर्त हारने के डर से अपने सर्प पुत्रो को कहा की वे उस घोड़े की पूछ में चिपक कर काली पूछ का आकर ले ले| विनता के प्रति कद्रू और अपने भाइयो के कपट की भावना को देखने के बाद शेषनाग ने अपने परिवार को और अपने भाइयो को छोड़ दिया और हिमालय तथा गंधमादन के पर्वत पर तपस्या के लिए चले गये| वे सिर्फ हवा के सहारे जीवन यापन करने लगे और अपनी ईन्द्रीयो पर काबू पाने के लिए ध्यान करने लगे|

    उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रम्हाजी प्रकट हुए और शेषनाग को वरदान दिया की तुम्हारी बुद्धि धर्म से कभी विचलित नहीं होगी| ब्रम्हाजी ने शेषनाग को यह भी कहा की यह पृथ्वी पहाड़ो, नदियों के कारण हमेशा हिलती रहती है तो क्या तुम इसे अपने उपर धारण कर सकते हो| इसके बाद शेषनाग ने पृथ्वी को अपने फन के उपर धारण कर लिया जिससे पृथ्वी स्थिर हो गयी|

    2.      विज्ञान की द्रष्टि से-

    विज्ञान ने कभी भी यह नहीं माना है की पृथ्वी शेषनाग के उपर टिकी है, विज्ञान यही मानता है की पृथ्वी और अन्य ग्रह अन्तरिक्षीय उर्जा, बल आदि कारणों से स्थिर है|

    सोरमंडल का सबसे बड़ा चाँद कोनसा है?

    एक बार अमेरिका में स्टीफन हॉकिंग  ने अपना भाषण दिया वहा एक औरत ने भाषण सुनने के बाद उनसे कहा की आप नहीं जानते की यह पृथ्वी एक बहुत बड़े कछुए के उपर टिकी है, स्टीफन हॉकिंग  ने उस औरत से पूछा की फिर वो कछुआ किसके ऊपर टिका है, यह सुनकर वो ओरत चुप हो गयी|

    विज्ञान यही कहता है की अन्तरिक्ष में अगर कोई वस्तु गतिशील है तो वह गतिशील ही रहेगी, अगर कोई स्थिर है तो वह स्थिर ही रहेगी जबतक की कोई अतिरिक्त बल उस वस्तु पर नहीं लगे| विज्ञान के आधार से धरती का शेष या आधार आकाश, अन्तरिक्ष, सूर्य, पानी है जिससे सभी  की सरंचना सम्भव है|

    Related Links-

     

    • 202 views
    • 1 answers
    • 1 votes
  • PNR की फुल फॉर्म-

    PNR की फुल फॉर्म Passenger Name Record होती है, PNR 10 अंकों का एक Unique Code Number होता है जो Ticket के ऊपर बाएं तरफ लिखा होता है, आमतौर पर रेलवे टिकेट का पी.एन.आर 10 अंको का होता है जबकि हवाई यात्रियों के Ticket का पी.एन.आर 6 अंको का ही होता है|

    IRCTC से ऑनलाइन Train Ticket की बुकिंग कैसे कराये?

    PNR Number का उपयोग यात्रियों के डाटाबेस या रिकॉर्ड रखने के लिए किया जाता है जिसके अंतर्गत इसमे यात्री का नाम, आयु, जन्म तिथि, लिंग, यात्रा करने की तिथि अंकित होती है, अगर आप यात्रा में किसी दुर्घटना का शिकार होते है तो PNR से आपकी पहचान हो सकती है| PNR Number के माध्यम से ही आप अपनी सीट नंबर, वेटिंग सीट और आरक्षित सीट के बारे में जानकारी ले सकते हैं|

    PNR Number कैसे चेक करे(How to Check PNR)-

    • आप IRCTC की वेबसाइट के माध्यम से online PNR Number के स्थिति की जाँच कर सकते है|
    • IRCTC के मोबाइल app या मोबाइल एप्लीकेशन से भी आप अपने PNR Number की जानकारी पा सकते है|
    • Mobile Phone से SMS के माध्यम से आप PNR की जाँच कर सकते है|
    • आप आरक्षण चार्ट से भी PNR स्थिति के बारे में पता लगा सकते है|
    • आप रेलवे जांच काउंटर या रेलवे स्टेशन पर अपने PNR की स्थिति जाच सकते है|

    Related Links-

    • 120 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • Asked on December 4, 2018 in GK - सामान्य ज्ञान.

    घडी का अविष्कार (Invention of Watch)-

    सर्वप्रथम घडी का अविष्कार सन् 996 में  पोप सिलवेस्टर द्वितीय ने किया| 13 वी शताब्दी के शुरू में ही यूरोप में घडियो का प्रयोग शुरू हो गया था, उसके बाद सन 1300 में  Henry De Vick ने अंकपृष्ठ डायल और घंटा निर्देशक सूईयुक्त पहली घड़ी बनाई|

    और पढ़े- विद्युत बल्ब का सिद्धांत क्या है?

    इसके बाद  सन 1577 में घड़ी की मिनट वाली सुई का आविष्कार स्विट्ज़रलैंड के जॉस बर्गी द्वारा किया गया जिसके कारण सन 1700 के आस-पास Henry De Vick  की घडी में बदलाव करके उसमे मिनट और सेकेण्ड का कांटा भी डाल दिया गया था|

    Related Links-

    • 95 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • OK की फुल फॉर्म (Full Form of OK)-

    OK की फुल फॉर्म All Correct है यहा All Correct का AC होता है लेकिन सन 1838-39 के समय English शब्दों की गलत Spelling लिखने का Fashion था, जिसके कारण All Correct को Oll Korrect कहते थे|

    और पढ़े- MLA की फुल फॉर्म क्या है?

    इसके बाद 23 March 1839 मे पहली बार एक अमेरिकी अखबार ने Oll Korrect को प्रकाशित किया| फिर कुछ दिनों बाद इसे छोटा कर बॉस्टन मॉर्निग पोस्ट नामक अखबार ने इसे OK कर दिया. जिसके बाद यह पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो गया|

    लगभग 170 साल पहले गलत Spelling लिखने के Fashion के कारण OK शब्द का जन्म हुआ, ok का जन्म 1839 में हुआ और तब से लेकर आज तक लोग ok ही बोलते है|

    Related Links-

     

    • 77 views
    • 1 answers
    • 1 votes
  • Asked on November 23, 2018 in GK - सामान्य ज्ञान.

    Total Countries in the World – दुनिया में कुल देश 

    दुनिया मे कितने देश है. इसकी एक संख्या नही है. कहा जाता है कि दुनिया में 300 से भी अधिक देश है. लेकिन इसका कोई आधार नही है|

    इसलिए United Nation के सदस्य देशों को ही मानक माना गया है. जिनकी संख्या 195 है. इनके नाम नीचे है:

    Vishva ka naksha

    • 54 countries are in Africa
    • 48 in Asia
    • 44 in Europe
    • 33 in Latin America and the Caribbean
    • 14 in Oceania
    • 2 in Northern America

     

    दुनिया में सबसे बेहतर देश कौनसा है|

    World की सबसे अमीर देश कौनसे है|

     

    List of Countries and Population

    # Country Population
    (2018)
    World
    Share
    1 China 1,415,045,928 18.5 %
    2 India 1,354,051,854 17.7 %
    3 U.S. 326,766,748 4.3 %
    4 Indonesia 266,794,980 3.5 %
    5 Brazil 210,867,954 2.8 %
    6 Pakistan 200,813,818 2.6 %
    7 Nigeria 195,875,237 2.6 %
    8 Bangladesh 166,368,149 2.2 %
    9 Russia 143,964,709 1.9 %
    10 Mexico 130,759,074 1.7 %
    11 Japan 127,185,332 1.7 %
    12 Ethiopia 107,534,882 1.4 %
    13 Philippines 106,512,074 1.4 %
    14 Egypt 99,375,741 1.3 %
    15 Viet Nam 96,491,146 1.3 %
    16 DR Congo 84,004,989 1.1 %
    17 Germany 82,293,457 1.1 %
    18 Iran 82,011,735 1.1 %
    19 Turkey 81,916,871 1.1 %
    20 Thailand 69,183,173 0.9 %
    21 U.K. 66,573,504 0.9 %
    22 France 65,233,271 0.9 %
    23 Italy 59,290,969 0.8 %
    24 Tanzania 59,091,392 0.8 %
    25 South Africa 57,398,421 0.8 %
    26 Myanmar 53,855,735 0.7 %
    27 South Korea 51,164,435 0.7 %
    28 Kenya 50,950,879 0.7 %
    29 Colombia 49,464,683 0.6 %
    30 Spain 46,397,452 0.6 %
    31 Argentina 44,688,864 0.6 %
    32 Uganda 44,270,563 0.6 %
    33 Ukraine 44,009,214 0.6 %
    34 Algeria 42,008,054 0.6 %
    35 Sudan 41,511,526 0.5 %
    36 Iraq 39,339,753 0.5 %
    37 Poland 38,104,832 0.5 %
    38 Canada 36,953,765 0.5 %
    39 Afghanistan 36,373,176 0.5 %
    40 Morocco 36,191,805 0.5 %
    41 Saudi Arabia 33,554,343 0.4 %
    42 Peru 32,551,815 0.4 %
    43 Venezuela 32,381,221 0.4 %
    44 Uzbekistan 32,364,996 0.4 %
    45 Malaysia 32,042,458 0.4 %
    46 Angola 30,774,205 0.4 %
    47 Mozambique 30,528,673 0.4 %
    48 Nepal 29,624,035 0.4 %
    49 Ghana 29,463,643 0.4 %
    50 Yemen 28,915,284 0.4 %
    51 Madagascar 26,262,810 0.3 %
    52 North Korea 25,610,672 0.3 %
    53 Côte d’Ivoire 24,905,843 0.3 %
    54 Australia 24,772,247 0.3 %
    55 Cameroon 24,678,234 0.3 %
    56 Niger 22,311,375 0.3 %
    57 Sri Lanka 20,950,041 0.3 %
    58 Burkina Faso 19,751,651 0.3 %
    59 Romania 19,580,634 0.3 %
    60 Malawi 19,164,728 0.3 %
    61 Mali 19,107,706 0.3 %
    62 Kazakhstan 18,403,860 0.2 %
    63 Syria 18,284,407 0.2 %
    64 Chile 18,197,209 0.2 %
    65 Zambia 17,609,178 0.2 %
    66 Guatemala 17,245,346 0.2 %
    67 Netherlands 17,084,459 0.2 %
    68 Zimbabwe 16,913,261 0.2 %
    69 Ecuador 16,863,425 0.2 %
    70 Senegal 16,294,270 0.2 %
    71 Cambodia 16,245,729 0.2 %
    72 Chad 15,353,184 0.2 %
    73 Somalia 15,181,925 0.2 %
    74 Guinea 13,052,608 0.2 %
    75 South Sudan 12,919,053 0.2 %
    76 Rwanda 12,501,156 0.2 %
    77 Tunisia 11,659,174 0.2 %
    78 Belgium 11,498,519 0.2 %
    79 Cuba 11,489,082 0.2 %
    80 Benin 11,485,674 0.2 %
    81 Burundi 11,216,450 0.1 %
    82 Bolivia 11,215,674 0.1 %
    83 Greece 11,142,161 0.1 %
    84 Haiti 11,112,945 0.1 %
    85 Dominican Republic 10,882,996 0.1 %
    86 Czech Republic 10,625,250 0.1 %
    87 Portugal 10,291,196 0.1 %
    88 Sweden 9,982,709 0.1 %
    89 Azerbaijan 9,923,914 0.1 %
    90 Jordan 9,903,802 0.1 %
    91 Hungary 9,688,847 0.1 %
    92 United Arab Emirates 9,541,615 0.1 %
    93 Belarus 9,452,113 0.1 %
    94 Honduras 9,417,167 0.1 %
    95 Tajikistan 9,107,211 0.1 %
    96 Serbia 8,762,027 0.1 %
    97 Austria 8,751,820 0.1 %
    98 Switzerland 8,544,034 0.1 %
    99 Israel 8,452,841 0.1 %
    100 Papua New Guinea 8,418,346 0.1 %
    101 Togo 7,990,926 0.1 %
    102 Sierra Leone 7,719,729 0.1 %
    103 Bulgaria 7,036,848 0.1 %
    104 Laos 6,961,210 0.1 %
    105 Paraguay 6,896,908 0.1 %
    106 Libya 6,470,956 0.1 %
    107 El Salvador 6,411,558 0.1 %
    108 Nicaragua 6,284,757 0.1 %
    109 Kyrgyzstan 6,132,932 0.1 %
    110 Lebanon 6,093,509 0.1 %
    111 Turkmenistan 5,851,466 0.1 %
    112 Singapore 5,791,901 0.1 %
    113 Denmark 5,754,356 0.1 %
    114 Finland 5,542,517 0.1 %
    115 Slovakia 5,449,816 0.1 %
    116 Congo 5,399,895 0.1 %
    117 Norway 5,353,363 0.1 %
    118 Eritrea 5,187,948 0.1 %
    119 State of Palestine 5,052,776 0.1 %
    120 Costa Rica 4,953,199 0.1 %
    121 Liberia 4,853,516 0.1 %
    122 Oman 4,829,946 0.1 %
    123 Ireland 4,803,748 0.1 %
    124 New Zealand 4,749,598 0.1 %
    125 Central African Republic 4,737,423 0.1 %
    126 Mauritania 4,540,068 0.1 %
    127 Kuwait 4,197,128 0.1 %
    128 Croatia 4,164,783 0.1 %
    129 Panama 4,162,618 0.1 %
    130 Moldova 4,041,065 0.1 %
    131 Georgia 3,907,131 0.1 %
    132 Bosnia & Herzegovina 3,503,554 0 %
    133 Uruguay 3,469,551 0 %
    134 Mongolia 3,121,772 0 %
    135 Albania 2,934,363 0 %
    136 Armenia 2,934,152 0 %
    137 Jamaica 2,898,677 0 %
    138 Lithuania 2,876,475 0 %
    139 Qatar 2,694,849 0 %
    140 Namibia 2,587,801 0 %
    141 Botswana 2,333,201 0 %
    142 Lesotho 2,263,010 0 %
    143 Gambia 2,163,765 0 %
    144 TFYR Macedonia 2,085,051 0 %
    145 Slovenia 2,081,260 0 %
    146 Gabon 2,067,561 0 %
    147 Latvia 1,929,938 0 %
    148 Guinea-Bissau 1,907,268 0 %
    149 Bahrain 1,566,993 0 %
    150 Swaziland 1,391,385 0 %
    151 Trinidad and Tobago 1,372,598 0 %
    152 Timor-Leste 1,324,094 0 %
    153 Equatorial Guinea 1,313,894 0 %
    154 Estonia 1,306,788 0 %
    155 Mauritius 1,268,315 0 %
    156 Cyprus 1,189,085 0 %
    157 Djibouti 971,408 0 %
    158 Fiji 912,241 0 %
    159 Comoros 832,347 0 %
    160 Bhutan 817,054 0 %
    161 Guyana 782,225 0 %
    162 Montenegro 629,219 0 %
    163 Solomon Islands 623,281 0 %
    164 Luxembourg 590,321 0 %
    165 Suriname 568,301 0 %
    166 Cabo Verde 553,335 0 %
    167 Maldives 444,259 0 %
    168 Brunei 434,076 0 %
    169 Malta 432,089 0 %
    170 Bahamas 399,285 0 %
    171 Belize 382,444 0 %
    172 Iceland 337,780 0 %
    173 Barbados 286,388 0 %
    174 Vanuatu 282,117 0 %
    175 Sao Tome & Principe 208,818 0 %
    176 Samoa 197,695 0 %
    177 Saint Lucia 179,667 0 %
    178 Kiribati 118,414 0 %
    179 St. Vincent & Grenadines 110,200 0 %
    180 Tonga 109,008 0 %
    181 Grenada 108,339 0 %
    182 Micronesia 106,227 0 %
    183 Antigua and Barbuda 103,050 0 %
    184 Seychelles 95,235 0 %
    185 Andorra 76,953 0 %
    186 Dominica 74,308 0 %
    187 Saint Kitts & Nevis 55,850 0 %
    188 Marshall Islands 53,167 0 %
    189 Monaco 38,897 0 %
    190 Liechtenstein 38,155 0 %
    191 San Marino 33,557 0 %
    192 Palau 21,964 0 %
    193 Nauru 11,312 0 %
    194 Tuvalu 11,287 0 %
    195 Holy See 801 0 %

    Related:

    विश्व का वो कौनसा देश है जो आज तक गुलाम नहीं बना|

    एशिया में कितने देश हैं

    भारत में कितने राज्य हैं

    • 15764 views
    • 3 answers
    • 1 votes
  • Asked on November 9, 2018 in विज्ञान (Science).

    बल्ब का सिद्धांत-

    सर्वप्रथम बल्ब का अविष्कार थॉमस एडिसन ने किया था, एडिसन और उनकी टीम ने बल्ब बनाने के लिए लगभग 1 साल के अंदर 3000 से भी अधिक प्रयोग किये, जिसके बाद उन्होंने बल्ब के  अविष्कार को अपने नाम किया हालाँकि इसके बाद कुछ अन्य वैज्ञानिकों ने बल्ब में महत्वपूर्ण बदलाव किये|

    और पढ़े- लेन्ज का नियम क्या है?

    बल्ब को पहले तापदीप्त लैम्प कहते थे, क्योकि यह ताप के कारण प्रकाश उत्पन्न करता है| बल्ब में एक पतला तार होता है जिसे फिलामेंट भी कहते है, इससे जब विधुत बहती है तो यह गर्म होकर प्रकाश उत्पन्न करने लगता है| बल्ब पर काच का आवरण इसलिए होता है क्योकि अगर फिलामेंट ऑक्सीजन के संपर्क में आती है तो यह कमजोर होकर टूट जाएगी, जिसके कारण बल्ब बंद हो जाएगा|

    और पढ़े- कुलाम का नियम और सूत्र क्या है?

    विद्युत बल्ब के अंदर आर्गन गैस भरी होती है जो फिलामेंट को कमजोर होने से बचाती है और जल्दी गर्म होकर प्रकाश फेलाने में मदद करती है|

    बल्ब के फ्यूज होने के निम्न कारण है-

    • फिलामेंट तार का कमजोर होकर टूटना|
    • हाई वोल्टेज जिसके कारण भी फिलामेंट टूट जाता है|
    • वायुमंडल की ऑक्सीजन का बल्ब में पहुचना जिससे फिलामेंट क्षतिग्रस्त हो जाता है|
    • बल्ब का जीवन काल|

    Related Links-

    This answer accepted by sunil_24. on November 9, 2018 Earned 1 points.

    • 110 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • Asked on November 4, 2018 in Finance.

    insurance Company के Agent को कितना कमीशन मिलता है-

    कोई भी व्यक्ति अपने करियर में LIC का Agent बनकर अपने जीवन को सवार सकता  है क्योकि LIC का Agent एक अधिकारिक बीमा सलाहकार होता है जो आपको LIC की सभी नितीयो के बारे में बताता है और आपके लिए सही प्लान को चुनने में मदद करता है, इसके बदले में Agent कंपनी से उस बीमा की रकम का कुछ हिस्सा अथवा कमीशन लेता है| बीमा कंपनी के एजेंट द्वारा लिया जाने वाला कमीशन पॉलिसी के हिसाब से अलग अलग दर पर निर्धारित होता है इसलिए कुछ पॉलिसी में कम कमीशन मिलता है तो कुछ में अधिक कमीशन मिलता है|

    और पढ़े- LIC की Best पॉलिसी कोनसी है?

    LIC में एजेंट का कमीशन पॉलिसी की अवधि और जीवन बीमा के प्रकार जैसे Endowment, Money back आदि पर निर्भर करता है, जो पॉलिसी 15 वर्षो से ज्यादा की होती है उसमे हमेशा अधिक कमीशन मिलता है, Life insurance कंपनिया अपने एजेंटों को अच्छा काम करने और प्रोत्साहन देने के लिए उनके प्रथम वर्ष में मिलने वाले कमीशन पर एक निश्चित मात्रा में बोनस भी प्रदान करती है| 15 से अधिक वर्षो के बीमा पॉलिसी में पहले वर्ष में अधिकतम 25% की दर कमीशन मिलता है साथ ही कमीशन की राशी का 40% हिस्सा बोनस के रूप में मिलता है यानि आपको पहले वर्ष में कुल 35 से 40% कमीशन मिलता है, यहा आपको बोनस के रूप में 40% आपके पहले वर्ष के कुल कमीशन पर मिलता है, इसलिए आपका कुल कमीशन 35 से 40% तक होता है| फिर चोथे वर्ष से कम से कम 5% की दर से आपको कमीशन मिलता है|

    बीमा कंपनी आपको जो कमीशन का भुगतान करती है उसमे से कंपनी Income Tax के रूप में 10% TDSपहले ही काट लेती है, नयी पॉलिसी का कमीशन आपको महीने में दो तरीके से मिल सकता है, अगर आपने 15 तारीख से पहले पॉलिसी की है तो आपको उसका कमीशन 17-20 तारीख तक मिल जाता है, लेकिन अगर आपने 15 से 30 तारीख के बीच पॉलिसी की हैं तो उसका कमीशन आपको अगले महीने की 3 से 5 तारीख तक मिल जाता है|

    और पढ़े- Health insurance क्या है पूरी जानकारी दीजिए?

    इसी के साथ आप एजेंट के कमीशन को इस सारणी के साथ समझ सकते है|

    वर्ष

    1st Type 

    Endowment

    2nd Type  

    Money Back

    पहला वर्ष

    25%

    15%

    बोनस कमीशन

    कमीशन का 40%

    कमीशन का 40%

    दूसरा वर्ष

    7.50%

    10%

    तीसरा वर्ष

    7.50%

    10%

    चोथा वर्ष

    5%

    6%

    चोथे वर्ष के बाद कमीशन की दर आपकी वही रहेगी जो चोथे वर्ष में थी यानि अगर पॉलिसी 20 वर्षो की है तो 4 वर्ष के बाद आपको 5% की दर से ही कमीशन मिलेगा, कुछ विशेष परिस्थितियों में ही बाद में आपका कमीशन बदला जाता है|

    Related Links-

     

    • 114 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • Asked on November 3, 2018 in How to.

    PNB के डेबिट कार्ड का PIN Generate कैसे करे-

    अगर आप PNB Bank के Customer है और आपको अपने डेबिट कार्ड का पिन पता करके अपना ATM कार्ड चालू करवाना है तो आप आने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से SMS भेज कर Green PIN प्राप्त कर सकते है जिससे आप अपना ATM कार्ड शुरू कर सकते है, इसके लिए आपको निम्न प्रक्रिया से गुजरना होगा|

    PNB डेबिट कार्ड का Green PIN कैसे प्राप्त करे-

    Green PIN प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आपको अपने रजिस्टर मोबाइल नंबर से एक SMS भेजना होगा, जिसमे आपको capital letter में “DCPIN” लिख कर बाद में space देना है और अब आपको अपने PNB ATM Card के 16 digit number टाइप करने है| इसका Format इस प्रकार से है DCPIN<Space ><16 digit ATM Card Number>
    Example – DCPIN 1234567890000000

    और पढ़े- PNB का डेबिट कार्ड ब्लाक हो गया हैं? इसे Unblock कैसे करें?

    इसके बाद आप आपको PNB के Registered Mobile Number से 5607040 पर SMS भेज देना है| लेकिन अगर आप इंडिया से बाहर रहते है तो इसी SMS को Registered Mobile Number से 9264092640 पर भेज दे|

    इस SMS को भेजते ही थोड़ी देर में आपको PNB bank की तरफ से उसी number से एक message आएगा, जिसमे 6 digit का OTP लिखा होगा| इसी 6 digit के OTP को Green PIN कहते है|

    Green PIN को Activate कैसे करे-

    बैंक की तरफ से जो 6 digit का OTP यानि Green PIN मिलता है उसे हम सिर्फ एक बार ही उपयोग में ले सकते है, अतः इसी OTP का उपयोग करके एक new PIN बनाना होगा| इसके लिए आपको निम्न चरणों को अपनाना होगा|

    और पढ़े- चिप बेस्ड कार्ड क्या है? SBI Bank पुराने ATM Card की जगह चिप बेस्ड ATM कार्ड क्यों भेज रहा है?

    • PNB Bank के ATM में जाकर ATM कार्ड को Swipe करे, और अपनी भाषा चुन ले|
    • अब आपको ATM की स्क्रीन पर ENTER GREEN PIN का ऑप्शन मिलेगा उसे चुन ले|
    • अब आपको अपना Green PIN लिखकर yes पर क्लिक करना है|
    • इसके बाद आपको अपना नया 4 digit का PIN लिखना है और बाद में Press Here पर क्लीच्क करना है|     
    • अब आपको वापस अपना नया 4 digit का PIN लिखना है ताकि आपका पिन नंबर कन्फोर्म हो जाए

    अब आपके ATM कार्ड का पिन Change हो गया है, आपका 4 digit का PIN ही नया पिन है|

    PNB बैंक के ATM Card को Activate करने सम्बन्धी महत्वपूर्ण बाते-

    • Green PIN का उपयोग केवल एक बार ही होता है इसलिए सबसे पहले अपना PIN Change कर दे|
    • PNB के Green PIN को आप केवल 72 घंटे तक ही use कर सकते है 72 घंटे के बाद यह expire हो जाएगा|
    • PNB के Green PIN का use केवल PNB Bank के ATM में ही कर सकते है|

    Related Links-

    • 142 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • Asked on November 2, 2018 in Education.

    फेज शिफ्ट R-C Oscillator circuit क्या है-

    R-C Oscillator एक प्रकार का circuit है जिसका उपयोग T.V, C.R.O, रेडिओ  आदि में एक निश्चित मात्रा में फ्रीकवेंसी पैदा करने में किया जाता है। कॉमन एमीटर एम्पलीफायर में Input और Output के बिच 180 का फेज होता है। एम्पलीफायर में पहला फेज 180 का आता है तथा पुनः इन्वेंटिंग स्टेज पर दूसरा 180 का फेज आता है जिसके कारण कुल 360 का फेज हो जाता है| L-C सर्किट में यह फेज शिफ्ट इंडक्टर द्वारा प्राप्त हो जाता है परन्तु R-C सर्किट में इसके लिए प्रबन्ध करना पड़ता है, R-C का उपयोग Low Frequency के लिए किया जा सकता है लेकिन L-C का उपयोग Low Frequency के लियए नहीं कर सकते है|

    और पढ़े- Electrode और Electrode Potential क्या होता है|

    इसमे 3 Register Capacitor का उपयोग होता है जिसे R-C फेज नेटवर्क कहते है| ऑसिलेटर के लिए आवश्यक फीडबैक वोल्टेज फीडबैक नैटवर्क R1 C1, R2 C2 , R3 C3 के द्वारा प्राप्त किया जाता है। प्रत्येक R-C संयोजन 60 का फेज शिफ्ट पैदा करता है। R-C संयोजन का मान इस प्रकार निर्धारित किया जाता है की वोल्टेज के पिछड़ने का कोण 60 हो जाये। इस कारण पहले R-C में 60 का फेज होता है और दूसरे R-C में 120 का फेज होता है तथा तीसरे R-C में 180 का फेज हो जाता है| इस प्रकार तीन R-C संयोजनों से 180 का फेज शिफ्ट प्राप्त हो जाता है।

    Image result for फेज शिफ्ट R-C Oscillator

    R-C Oscillator circuit के गुण तथा दोष-

    गुण :- R-C ऑसिलेटर हर्ट्ज से 100 MHz तक की फ्रीकवेंसी पैदा कर सकता है लेकिन यह कम फ्रीकवेंसी ऑसिलेटर के रूप में अधिक उपयोगी है। पहला कम फ्रीकवेंसी रेंज में इसकी फ्रीकवेंसी स्थिर होती है और दूसरे ट्रांसफार्मर आदि लगाने की कोई आवश्यकता नहीं होती।

    दोष –  R-C ऑसिलेटर का उपयोग वैरिएबल फ्रीकवेंसी ऑसिलेटर के रूप में नहीं कर सकते क्योकि फ्रीकवेंसी को बदलने के लिए पुरे फेज शिफ्ट नैटवर्क़ के पुर्जे बदलने होंगे जिसके कारण यह उपयोगी नहीं है|

    Related Links-

    • 87 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • Asked on October 29, 2018 in विज्ञान (Science).

    कोशिका में उर्जा का संचय कहा होता है-

    कोशिका में उर्जा का संचय माइटोकांड्रीया में होता है, भोजन के ओक्सीकरण से माइटोकांड्रीया से उर्जा मुक्त होती है| यह उर्जा ATP के रूप मे संचित होती है, इस कारण इसे कोशिका का Power House भी कहते है|

    Related Links-

    • 64 views
    • 1 answers
    • 0 votes