Ram's Profile

341
Points

Questions
33

Answers
67

  • Asked on August 25, 2019 in Finance.

    जीएसटी प्रैक्टिशनर का क्या मतलब हैं –

    GST क़ानून के तहत किसी भी करदाता को विभिन्न प्रकार के कार्य करने होते हैं जैसे GST का रजिस्ट्रेशन करना, GST के रिटर्न फाइल करना आदि| GST कानून के अनुसार कोई भी करदाता चाहे तो इस प्रकार के काम GST प्रैक्टिशनर के द्वारा भी करवा सकता हैं| GST प्रैक्टिशनर सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त वह व्यक्ति होता हैं जिसको करदाता अपने GST सम्बंधित कार्य करने की अनुमति देता हैं|

    GST Practitioner Kaise Bane

    GST Practitioner कौन बन सकता हैं –

    GST क़ानून के अनुसार जीएसटी प्रैक्टिशनर बनने के लिए निम्न योग्यता (Eligibility) आवश्यक हैं :-

    Basic Eligibility

    • भारत का नागरिक हो – Indian Citizen
    • मानसिक संतुलन सही हो – Sound Mind
    • दिवालिया ना हो – Solvent
    • न्यायालय द्वारा किसी भी ऐसे अपराध में दोषी न पाया जाना जिसमें कम से कम दो वर्ष की सजा हो – not been convicted by a competent court for an offence with imprisonment not less than two year

    Education and Work Experience

    • कॉमर्स, लॉ, बैंकिंग, ऑडिटिंग, बिज़नेस मैनेजमेंट आदि में ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट होना – graduate or postgraduate degree or its equivalent examination, having a degree in Commerce, Law, Banking including Higher Auditing, or Business Administration or Business Management. या
    • ऐसा व्यक्ति जिसने Chartered Accountancy (CA), Company Secretaries (CS) या Cost Accountancy Course की फाइनल परीक्षा पास कर ली हैं और उसके पास किसी भी यूनिवर्सिटी की डिग्री हैं| या
    • राज्य सरकार के कमर्शियल टैक्स डिपार्टमेंट (Commercial Tax Department) या केंद्रीय उत्पाद और सेवा कर (CBEC) का रिटायर्ड अधिकारी (Retired Officer)|

    Also Check – GST Practitioner Exam Details

     

    GST Practitioner बनने के लिए क्या करना पड़ता हैं –

    GST Practitioner बनने के लिए GST Portal पर Online Application दाखिल करनी पड़ेगी हैं जो की जीएसटी लागू होने के बाद ही की जा सकेगी|

    Related Question –

    This answer accepted by Raman. on May 28, 2017 Earned 1 points.

    • 11567 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • PUBG Meaning | Full Form

    PUBG का मतलब होता है – Player Unknown’s Battlegrounds यानी एक लड़ाई का मैदान जहाँ आप अनजान खिलाडियों के साथ खेलते है| PUBG Mobile दुनिया का सबसे ज्यादा खेले जाने वाला मोबाइल गेम बन चूका है| पिछले 2 सालो में ही यह गेम पूरी वर्ल्ड में आग की तरह फेल गया है और हर रोज इससे लाखो लोग जुड़ते है|

    RE: PUBG की फुल फॉर्म क्या हैं? - Full Form of PUBG in Hindi

     

    How Many Players in PUBG –

    PUBG के Users की बात करे तो इसे All Over World में करीब 200 Million (20 करोड) से भी ज्यादा खिलाडी खेलते है| साथ ही इसके 30 मिलियन यानी 3 करोड़ Active User है और इसके Base पर ही PUBG Mobile Game को बनाने वाली कम्पनी ने पिछले साल करीब 1000 करोड़ की कमाई की थी|

     

    PUBG Fact –

    यहाँ मैं PUBG के कुछ फैक्ट्स की बात करने वाला हूँ, क्योकि इसके Facts वाकई कमाल के और Funny है और अगर आप PUBG खेलते है तो आपको इसके बारे में जरुर जानना चाहिए –

    1. PUBG एक Gamer द्वारा बनाया गया है जिनका नाम – Brendan Greene है|
    2. PUBG में मौजूद kar98k नाम की Bullet (7.62mm) करीब 300m के बाद जमीन की तरफ यानी नीचे जाने लगती है|
    3. इस गेम में आने वाला सर्कल गोल नहीं बल्कि चोकोर होने वाला था, लेकिन गेम बनाने वाले को उसकी कोडिंग नहीं आती थी| इसलिए आज सर्कल गोल ही आता है|
    4. यह इतना Famous हो गया है की भारत में हर 3 में से एक युवा लड़का PUBG खेलता है|
    5. इसका 3 level हेलमेट आपको M24 और kar98k की गोलियों से भी एक बार के लिए बचा देता है|
    6. अगर आप PUBG खेलते है तो आपने Hacker नाम तो सुना ही होगा, तो हाँ करीब 1 करोड़ लोग PUBG Mobile को हैक करके खेलते है और मैच जीतते है|
    7. PUBG का MAP एक वास्तविक शहर चेरनोबिल का है जहाँ एक गैस रिसाव के कारण पूरा शहर रातो रात खाली कर दिया गया था| इसी के कारण आपको वहां खंडर, खाली मकान और किसी भी तरह का जानवर नहीं दिखाई देता|
    8. और आखिरी “Winner Winner Chicken Dinner” का इस्तेमाल  Las Vegas gamblers द्वारा किया जाता है साथ ही इसे Movie ’21’ में भी Use किया गया था|
    • 16726 views
    • 2 answers
    • 2 votes
  • Asked on August 23, 2019 in Education.

    चश्मालय इंग्लिश मीनिंग –

    देखिए चश्मालय का Hindi मतलब होता है – “वो जगह जाहे बहुत सारे चश्मे रखे गए है” यानी चश्मे की दुकान या गोदाम| English में चश्मे की दुकान को कई सारे नाम से बुलाया जा सकता है जैसे –

    • Eyeglasses Shop
    • Glasses Room 
    • Glasses Shop आदि|

    इसके आलावा अगर आपको कभी भी किसी भी शब्द का मतलब जानना है तो आप Google Translator का इस्तेमाल कर सकते है जो 90% सही होता है और आपको आसानी से अपने शब्दों के मतलब को समझ पाएँगे|

    Related – 

    • 377 views
    • 1 answers
    • 1 votes
  • Indian States (29 Rajya) and Capital City:

    भारत में 9 केंद्र शासित प्रदेश है और 29 राज्य है –

    States

    Capital City

    Andhra Pradesh

    Amravathi [*Hyderabad initially]
    Arunachal Pradesh Itanagar
    Assam Dispur
    Bihar Patna
    Chhattisgarh Raipur
    Goa Panaji
    Gujarat Gandhinagar
    Haryana Chandigarh (shared with Punjab)
    Himachal Pradesh Shimla
    Jammu & Kashmir Srinagar (Summer) Jammu (Winter)
    Jharkhand Ranchi
    Karnataka Bangalore
    Kerala Thiruvananthapuram
    Madhya Pradesh Bhopal
    Maharashtra Mumbai
    Manipur Imphal
    Meghalaya Shillong
    Mizoram Aizawl
    Nagaland Kohima
    Odisha (Orissa) Bhubaneshwar
    Punjab Chandigarh (shared with Haryana)
    Rajasthan Jaipur
    Sikkim Gangtok
    Tamil Nadu Chennai
    Telangana (from June 2, 2014) Hyderabad
    Tripura Agartala
    Uttar Pradesh Lucknow
    Uttarakhand Dehradun
    West Bengal Kolkata

    List of Indian Union Territory

    • 45468 views
    • 3 answers
    • 1 votes
  • CA कैसे बने पूरी जानकरी –

    चार्टर्ड एकाउंटेंसी कोर्स को पूरा कर लेने वाले व्यक्ति को चार्टर्ड अकाउंटेंट या C.A. कहते है| चार्टर्ड एकाउंटेंसी कोर्स वाणिज्य क्षेत्र का महत्वपूर्ण एंव उच्च स्तर का कोर्स है| यह कोर्स किसी विश्वविध्यालय द्वारा नहीं कराया जाता बल्कि पूरे भारत में इसके लिए एक ही संस्थान “इंस्टिट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ़ इंडिया (Institute of Chartered Accountants of India – ICAI)” है|

    यह कोर्स मुख्य रूप से लेखांकन(Accounting), ऑडिट(लेखा पुस्तकों की जाँच), कर-कानून(Tax Laws), कम्पनी एंव अन्य वाणिज्यक कानून (Corporate and other Commercial Laws), लागत लेखांकन(Cost Accounting) एंव वितीय प्रबंधन(Financial Management) आदि विषयों पर केन्द्रित है| यह स्वतंत्र कोर्स है एंव विद्यार्थी चाहे तो इसे स्वंय अध्ययन कर सकता है अथवा चाहे तो प्राइवेट कोचिंग ज्वाइन कर सकता है|

    माध्यम (Medium):- इस कोर्स को अंग्रेजी (English) माध्यम अथवा हिंदी माध्यम किसी भी माध्यम में किया जा सकता है| इस बात से गुणवता एंव स्तर पर कोई फर्क नहीं पड़ता की आप कोर्स को हिंदी में करते हो या अंग्रेजी में|

    उतीर्ण योग्यताएं (Passing Criteria):- CA कोर्स का कोई भी एग्जाम उतीर्ण करने के लिए प्रत्येक Group में 50 प्रतिशत कुल औसत अंक लाना आवश्यक है एंव ग्रुप के प्रत्येक विषय में कम से कम 40% अंक लाना आवश्यक है|

    करियर(Career):- CA करने के बाद, अगर आप इसी क्षेत्र में करियर बनाना चाहते है तो आपके पास मुख्य रूप से 2 विकल्प होते है| पहला विकल्प है की आप स्वंय अपना ऑफिस खोलकर प्रैक्टिस (practice) शुरू करें एंव स्वतंत्र (independently) रूप से कार्य करें| दूसरा विकल्प यह होता है कि आप किसी कम्पनी या अन्य संस्थान में नौकरी (Job) करें| इसके अलावा इस क्षेत्र में कई अन्य करियर के विकल्प मौजूद है|

     

    CA Course Fees Details –

    Fees की बात करे तो भारतीयो के लिए करीब 10000 रुपये और विदेशियों के लिए $780, CA Course Fees रखी गई है| Detail में जानकारी के लिए link पर जाए|

    CA Course कैसे किया जा सकता –

    इस कोर्स को दो तरह से किया जा सकता है, या तो इसे 12वीं के बाद शुरू किया जा सकता है अथवा इसे ग्रेजुएशन अथवा CWA कोर्स के इंटरमीडिएट अथवा CS कोर्स के इंटरमीडिएट एग्जाम को पास करने के बाद शुरू किया जा सकता है| अगर इसे 12वीं के बाद शुरू किया जाता है तो इसके लिए CPT (एंट्रेंस टेस्ट) देना पड़ता है लेकिन अगर इसे ग्रेजुएशन अथवा CWA कोर्स के इंटरमीडिएट अथवा CS कोर्स के इंटरमीडिएट एग्जाम को पास करने के बाद शुरू किया जाता है तो इसके लिए CPT (एंट्रेंस टेस्ट) देने की जरुरत नहीं पड़ती| ग्रेजुएशन के बाद शुरू करने पर भी CPT देने की जरुरत पड़ेगी अगर कॉमर्स ग्रेजुएट ने ग्रेजुएशन में 55% से कम एंव अन्य ग्रेजुएट (आर्ट्स, साइंस) ने ग्रेजुएशन में 60% से भी कम अंक अर्जित किये है|

    CPT – IPCC – Articleship Training – CA Final

     

    Common Proficiency Test level (CPT) – 

    सर्वप्रथम CPT के लिए ICAI के पास रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है एंव रजिस्ट्रेशन के कुछ दिनों बाद ICAI द्वारा स्वीकृति पत्र (Confirmation Letter) एंव इसकी books, डाक द्वारा भेज दी जाती है| ICAI द्वारा CPT की परीक्षा वर्ष में दो बार जून एंव दिसंबर माह में करायी जाती है| CPT की परीक्षा देने के लिये परीक्षा से कुछ महीने पूर्व exam फॉर्म भरना पड़ता है|

    CPT परीक्षा में 200 marks बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते है और पास होने के लिए कम से कम 100 marks लाने अनिवार्य होते है और प्रत्येक विषय में कम से कम 40% मार्क्स अनिवार्य है| ग्रेजुएशन (कॉमर्स में न्युनत्तम 55% एंव अन्य में न्यूनतम 60% अंक) अथवा CWA कोर्स के इंटरमीडिएट अथवा CS कोर्स के इंटरमीडिएट एग्जाम को पास कर चुके विद्यार्थियों को CPT (एंट्रेंस टेस्ट) देने की जरुरत नहीं पड़ती एंव वे सीधा IPC कोर्स से शुरू कर सकते है|

     

    IPCC Level:- CPT एग्जाम पास करने के बाद अथवा ग्रेजुएशन (कॉमर्स में न्युनत्तम 55% एंव अन्य में न्यूनतम 60% अंक) अथवा CWA कोर्स के इंटरमीडिएट अथवा CS कोर्स के इंटरमीडिएट एग्जाम को पास कर चुके विद्यार्थियों को IPCC के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होता है एंव रजिस्ट्रेशन के कुछ दिनों बाद ICAI द्वारा स्वीकृति पत्र (Confirmation Letter) एंव इसकी books, डाक द्वारा भेज दी जाती है | IPCC में 2 ग्रुप होते है जिसमें कुल मिला कर 7 विषय है| IPCC की परीक्षा वर्ष में 2 बार मई एंव नवम्बर में होती है|

    इस परीक्षा में एक बार में दोनों ग्रुप साथ में पास किये जा सकते है अथवा एक बार में केवल 1 ग्रुप पास किया जा सकता है एंव दूसरा ग्रुप अगली बार में पास किया जा सकता है| IPCC के एग्जाम से पूर्व ICAI द्वारा करवाए जाने वाले कुछ ट्रेनिंग प्रोग्राम जैसे 100 घंटे की ITT(Information Technology Traning) एंव 35 घंटे का ओरिएंटेशन प्रोग्राम आदि करने होते है| IPPC की परीक्षा से पूर्वे CPT की तरह इसमें भी एग्जाम फॉर्म भरना होता है|

     

    Articleship Training:- IPCC के Ist ग्रुप अथवा दोनों ग्रुप को पास करने के बाद 3 वर्ष की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है| यह ट्रेनिंग practice कर रहे Chartered Accountant के under की जाती है|     

    FInal Course :- यह CA कोर्स का अंतिम चरण है| IPCC के दोनों groups को pass कर लेने के बाद एंव 2 वर्ष व 6 महीने की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग पूरी कर लेने के बाद CA Final की परीक्षा दी जा सकती है| इसके लिए सर्वप्रथम रजिस्ट्रेशन करवाना होता है एंव रजिस्ट्रेशन के कुछ दिनों बाद ICAI द्वारा स्वीकृति पत्र (Confirmation Letter) एंव इसकी books, डाक द्वारा भेज दी जाती है| परीक्षा से पूर्व एग्जाम फॉर्म भरना होता है| CA Final में 2 ग्रुप होते है जिसमें कुल मिला कर 8 विषय है| CA Final की परीक्षा वर्ष में 2 बार मई एंव नवम्बर में होती है| इस परीक्षा में एक बार में दोनों ग्रुप साथ में पास किये जा सकते है अथवा एक बार में केवल 1 ग्रुप पास किया जा सकता है एंव दूसरा ग्रुप अगली बार में पास किया जा सकता है|

    Membership:- CA Final की परीक्षा उतीर्ण कर लेने एंव ICAI द्वारा करवाये जाने वाले GMCS Program को पूरा कर लेने पर ICAI से Membership प्राप्त हो जाती है एंव इसके बाद वह अपने नाम के आगे CA लगा सकता है|

    CA Salary in India – सैलरी की बात करे तो यह Normally 4 लाख से शुरू होता है और अधिकतम 20 लाख से भी अधिक हो सकता है| ज्यादा जानकारी के लिए link पर जाए|

    “CA करने के लिए विद्यार्थी का बचपन में मेधावी होना आवश्यक नहीं है, आवश्यकता केवल दृढ़ निश्चय एंव मेहनत की है|” 

    Related Question –

    This answer accepted by Mohit. on June 21, 2019 Earned 1 points.

    • 44450 views
    • 1 answers
    • 1 votes
  • Asked on January 1, 2019 in How to.

    Online Passport ऑनलाइन पासपोर्ट बनवाने के मुख्य कदम है –

    पासपोर्ट बनाने के लिए नीचे दी गई प्रोसेस को फॉलो करे –

    1. Passportindia.gov.in पर जाए – सबसे पहले Passport.gov.in की site पर जाए और “New User Registration” पर क्लिक करके अपना अकाउंट बनायें|

    2. फिर अपना ईमेल चेक करें जिसमें आपको paasportindia.gov.in से एक मेल आई होगी| इस मेल के अन्दर एक लिंक दिया हुआ होगा जिस पर क्लिक करके अपने अकाउंट को कन्फर्म करें |
    3. अब Passportindia.gov.in पर जाकर अपनी अकाउंट इनफार्मेशन डालकर लॉग इन करें
    4. अब “Fresh Passport” के लिए ऑनलाइन फॉर्म के आप्शन पर क्लिक करके ऑनलाइन फॉर्म भरें | आप चाहें तो फॉर्म डाउनलोड करके ऑफलाइन भी भर सकते और उसके बाद उस फॉर्म को आपको अपलोड करना होगा |
    5. फॉर्म भरने के बाद फॉर्म को सबमिट करें |
    6. अब ऑनलाइन फीस का पेमेंट करें | अगर आप फीस का ऑनलाइन पेमेंट नहीं कर सकते तो आप प्रिंट चालान के आप्शन पर क्लिक करके चालान का प्रिंट ले सकते है जिसके बाद आपको इस चालान को SBI की किसी भी ब्रांच में जमा करवाना होगा |
    7. फीस पेमेंट कन्फर्म हो जाने के बाद आप ऑनलाइन अपॉइंटमेंट ले सकते है | अगर आपने ऑनलाइन पेमेंट किया है तो पेमेंट कुछ ही समय में कन्फर्म हो जाएगा लेकिन अगर आपने चालान से पेमेंट किया है तो आपको कम से कम दो दिन का इन्तजार करना पड़ेगा | आप पेमेंट कन्फर्मेशन की जानकारी ऑनलाइन पासपोर्ट सेवा की वेबसाइट में लॉग इन करके प्राप्त कर सकते है |
    8. पेमेंट कन्फर्म हो जाने के बाद आपको ऑनलाइन लॉग इन करके अपने नजदीकी पास पोर्ट सेवा केंद्र के लिए अपॉइंटमेंट लेना होगा | आप अपने नजदीकी पासपोर्ट सेवा की जानकारी डालकर अपॉइंटमेंट अवैलाबिलिटी को देख सकते है |
    9. अपॉइंटमेंट लेने के बाद आपको निर्धारित तिथि को पासपोर्ट सेवा केंद्र जाना होगा जहाँ पर आपको ऑनलाइन फॉर्म की रसीद के साथ साथ ID proof,  Address proof और अन्य डॉक्यूमेंट की ओरिजिनल और फोटोकॉपी सबमिट करनी होगी |

    10 सारे डॉक्यूमेंट को चेक करने के बाद अगर पुलिस वेरिफिकेशन की जरूरत है तो पुलिस वेरिफिकेशन होगा अन्यथा आपको पासपोर्ट जारी कर दिया जाएगा

    • 20656 views
    • 3 answers
    • 2 votes
  • IRCTC Train Ticket Book Kare –

    भारतीय railway विभाग द्वारा दो तरीको railway ticket बेचे जाते हैं। जिसमे पहला तरीका railway station पर जा कर offline ticket खरीदने का है। और दूसरा आधुनिक तरीका internet के माध्यम से online ticket खरीदने का है। offline ticket खरीदने के लिए खरीददार को physically railway ticket counter पर जाना पड़ता है। जब के online ticket खरीददारी में घर पर बैठ कर भी कम्प्युटर पर internet चला कर, भारतीय railway विभाग की आधिकारिक website पर log on कर के ticket खरीदने की सुविधा मिलती है।

     Official Website of Indian Railaway  – https://www.irctc.co.in/

     

    Step-1 : Register on IRCTC Website –

    सब से पहले user को भारतीय रेल्वे विभाग की आधिकारिक website-https://www.irctc.co.in/ को goggle पर खोज कर मुख्य page पर से register TAB ढूँढना होगा। और उस पर click करने से registration form खुलेगा। जिसमें user को अपना पूरा नाम, एड्रैस, e-mail एड्रैस, फोन नंबर, शहर, पीन कोड, राज्य, वगेरा information डाल कर registration पूरा करना होगा। website user के द्वारा दिये गए फोन नंबर और mail एड्रैस को verify करता है। इसलिए website user के mail account में एक मेल भेजेगा, और user को उस mail में एक link भेजी जाती है, जिसे खोल कर user को अपने mail account को verify करवाना होता है। उसी तरह phone verification के लिए SMS के माध्यम से एक code भेजा जाता है। जिसे user को website पर बताना होता है। ताकि फोन नंबर भी verified हो जाए।

     

    Step-2 : Fill Journey Details

    User को अपना खाता register करा लेने के बाद journey / सफर की तारीख तय करनी होती है, तथा सफर करने वाले यात्रियों की संख्या, और आगमन एवं प्रस्थान से जुड़ी information website पर डालनी होती हैं।

    Train Ticket Booking

    चित्र में दिखाये अनुससर plan my journey विभाग पर select favorite journey list screen पर From station में उस जगह का नाम लिखें जहां से सफर शुरू करना हो। और To station वाले box में उस जगह का नाम लिखें जहां पर पहोचना हो, जाना हो। उसके बाद सफर की तारीख drop down Manu में से सुनिश्चित करें। तथा आगे ticket के प्रकार में E-ticket select रखें। और अगर यात्री शारीरिक अशक्षम यात्री की category में आते हों तो tick box में tick लगा दें। Note- handicap यात्रीयों के लिए भारत सरकार के द्वारा अलग सीटें आरक्षित की जाती हैं तथा उनके ticket पर विषेस छूट भी दी जाती हैं। अंत में submit TAB पर click करें।

    Train Ticket Booking

    अब user को चुने हुए आगमन और प्रस्थान stations के बीच दौड़ने वाली trains उनके आने जाने के समय, station, quota (general / physical handicap / ladies), class etc… details का चुनाव करना होता है। इस screen पर CLASS option पर नीचे दिये गए linked words (SL , 2A , 3A etc…) पर click करना होता है, जिस से पता चल जाता है के उस क्लास में कितनी seats available हैं। और सफर का किराया + service tax ticket पर कितना है सारी जानकारी display हो जाती है।

     

    Step-3; Book The Ticket

    Quota और class चुन लेने के बाद आगे अगले चरण में user को available तारीख के trains के ticket को चुन कर book now TAB पर click करना होता है।

    Train Ticket Booking

    अब user को कुल यात्रीयों की संख्या उम्र, पसंदीदा बर्थ seat (lower, middle, upper ) की details, train पर खाना हो तो meal का प्रकार (vegetable / non-vegetable), senior citizen हो साथ में तो उनकी डिटेल्स, etc… details भरनी होती हैं। (minor और senior citizen scheme पर सरकार के द्वारा मिलने वाली किसी भी प्रकार की छूट का फाइदा लेने के लिए उनके (यात्री के) ID proof साथ रखना अनिवार्य है।)

    Train Ticket Booking

    ऊपर की screen पर देखा जा सकता है के train का नाम, तारीख, आगमन, प्रस्थान, ट्रेन में चुने हुए बर्थ का प्रकार, quota, जैसी तमाम भरी हुई details display हो जाती हैं। अगर सफर करने वाले व्यक्ति के साथ 5 साल के नीचे की आयु के यात्री हैं तो उनका ब्योरा भी देना होता है।

     

    Step-4 : Choose the Right Option

    अब user को ticket के लिए auto up-gradation, only book if berth conform, एक ही berth में seat मिले तो सफर करना, कम से कम एक नीचे के berth की ticket मिले तो ही सफर करना, वगेरा options में से सुविधा अनुसार option चुनना होगा। और अगर सफर करना पक्का ही हो तो NONE पर click रख कर आगे बढ़ जाना चाहिए।

    Train Ticket Booking

    Screen पर दिखाए अनुसार captcha code सही सही भर दें। और आगे next button पर click कर दें। screen पर user का registered mobile number displaied होगा। जो की ticket की details और trains की information details SMS के द्वारा user को भेज देगा।

     

    Step-5 Online Payment Kare

    अब user को ticket का भुगतान करने के लिए ऑनलाइन net banking, cash card, credit card, debit card में से कोई एक भुगतान option चुनना होगा। ताकि online payment हो सके।

    Train Ticket Booking

    Ticket का payment करते ही user के screen पर अभिवादन / congratulation massage दिखाये देगा जिसमे ticket की सम्पूर्ण details और conformation होगा। user इस screen का print निकाल लें और अपने पास संभाल कर रख रख लें। तथा soft copy फोन पर भी save रखें।

    (Note- online ticket खरीदा है, तो सफर के वक्त अपना government approved कोई भी एक ID card (आधार कार्ड, पैन कार्ड,  वोट कार्ड etc… out of any one) साथ हमेशा रखें।

    Train Live Status Kaise Check Kare –

    Live Train Status चेक करने के लिये इस link पर जाए – Check Live Train Status

    • 12750 views
    • 1 answers
    • 1 votes
  • Asked on November 15, 2018 in How to.

    अपने PC या Laptop को बनाए Super Fast –

    आज के समय मे हर एक क्षेत्र मे Computer की महत्वपूर्ण भूमिका है| सरकारी दफ्तर, होटेल्स, कारखाने, बड़ी बड़ी कंपनी से ले कर सामान्य दुकानदार, सब के पास computer होता है| और computer काम काजी लोगो के आलावा, व्यक्तिगत उपयोग  के लिए भी खरीदे जाते है|सारे महत्वपूर्ण काम योजनाबद्ध तरीके से चलते रहें इसके लिए computer का fast और बिना रुके चलते रहना आवश्यक है| और अगर कही computer की speed कम हो जाए, या फिर computer अचानक बंद पड़ जाये तो मुश्किल हो जाती है|

    Computer मे आई गड़बड़ी को दूर करने के लिए computer experts काफी ज्यादा रकम charge करते है| इसलिए अगर समय-समय पर computer की सेहत का ध्यान रखा जाये तो बड़े खर्च से बचा जा सकता है|

    RE: Computer/Laptop Ki Speed Kaise Dadhaye (How to Speed up computer) - कंप्यूटर की स्पीड कैसे बढ़ाएं

     

    Computer की Speed Fast करने के तरीके – Hindi Tips

    1. Remove un-known developers software from computer 

    बाज़ार मे रोज नये नये software आते रहेते है, जो की अपने users को उपयोगी software मुफ्त मे download करने की सुविधा देते है|

    लेकिन users ये समझ नहीं पाते के जो चीज मुफ्त आती है वो कभी कभी बड़ी मुसीबते भी मुफ्त मे साथ लाती है|  

    अनजान developers के software download करने से कभी कभी download file के साथ साथ virus और spyware भी घुस आते है, जो की users के computer की speed तो कम कर ही सकते है, साथ साथ users की private details भी चुरा सकते है| और यहाँ तक की computer से फाइल्स को corrupt करने के साथ साथ कंप्यूटर को ख़राब भी कर सकते है| इसलिए computer की speed अगर कम हो गयी है तो सबसे पहेले un-wanted unknown developer से download किए हुए software को remove / un-install करे|

    Software केवल Official and Trusted Source/website से ही download करने चाहिए| उदाहरण के लिए अगर कंप्यूटर में windows operating system है तो सॉफ्टवेर Windows Store से ही डाउनलोड करने चाहिए|

    Breaches of Computer Security 

    2. Choose right software and programs for computer 

    अगर आप अपने computer पर internet browsing के लिए browser download कर रहे है या फिर accounting work के लिये, photo editing work के लिये, social networking के लिये, तथा किसी भी काम मे लिये internet से नया software install कर रहे है तो उसे download करने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बाते ध्यान मे लीजिये … जैसे कि …

    Software developer की detail॰ Software का size॰ Software के साथ आने वाले free unwanted plug-ins की details॰ Software serves करने वाली website की साख,  Software को पहेले use कर चुके users का feedback, Software के बारे मे users की complaints॰ software download की तादाद|  यह सब information पर research करके अगर software download & install किया जाये तो आप के computer की speed slow होने की शायद नौबत ही ना आए|

    Software केवल Official and Trusted Source/website से ही download करने चाहिए| उदाहरण के लिए अगर कंप्यूटर में windows operating system है तो सॉफ्टवेर Windows Store से ही डाउनलोड करने चाहिए|

    किसी भी software को download करने से पहेले हमेशा उसे anti-virus से scan करना चाहिए, ताकि virus ग्रस्त software के attack से बचा जा सके|

    अपने कंप्यूटर में Android App कैसे चलता है|

    3. Upgrade your computer RAM 

    Computer की Speed काफी हद तक कंप्यूटर की RAM पर निर्भर करती है| अगर RAM कम है तो एक से अधिक प्रोग्राम एक साथ चलने पर कंप्यूटर हैंग होने लगता है और स्पीड slow हो जाती है|

    user का computer slow चल रहा है और user को उसे fast speedy बनाना है तो RAM बदल कर भी computer की speed बढ़ायी जा सकती है| RAM- का मतलब random access memory होता है और RAM normally computer मे 512mb से ले कर 4gb+ तक की होती है| computer parts के business से जुड़े आम दुकान दार के पास आसानी से RAM मिल जाती है और RAM को बदलने का प्रोसेस काफी आसान होता है जिसकी details ram के साथ ही मिल जाती है| (MB – का अर्थ mega bite और GB का मतलब giga bite, TB का मतलब tera bite होता है – यह सब RAM की memory मापन के सूचक माप है|)

    Computer Programming kaise sikhe – Full Information in Hindi

    4. Delete unwanted data files

    कई बार users बे-मतलब के software install करके रखते है और वही software load होते समय RAM और Hard Disk का काफी हिस्सा रोकते है| इसलिये जिन software का उपयोग कभी कभी होता हो, उसे uninstall कर के रखने मे ही समजदारी है| और अगर कभी जरूरत पड़े तो setup files की मदद से उन्हे वापिस install कर लेना चाहिये| अगर computer पर बड़ी size के videos जमा कर रखे हों, या ज्यादा तादाद मे photos, files और folders जमा हो, तो उनकी वजह से भी computer की speed पर असर पड़ता है| इस लिये ज़रूरी files और data को pen drive, CD-compact disc, यां external drive मे जमा कर के रखना चाहिये|

    PC/ laptop में Backup System कैसे तैयार करे|

    5. Use CPU cooling pad for Laptops

    User के द्वारा अगर computer का use अधिक हो रहा है, तो electronic power supply computer के mother board को गर्म कर सकता है, जिसके कारण computer का processer और अन्य सहायक chips heat up हो कर काम करना बंद कर सकते है| और सही cooling ना मिलने से computer slow speed का शिकार हो सकता है और कई बार तो hang तक हो जाता है| इसलिये computer के अंदरूनी पुर्जो को ठंडा रखने के लिये cooling pad का इस्तमाल आवश्यक है| (cooling pad normally 1000 से 1500 rupee तक मिल जाते है|)

    Computer या Laptop को Format कैसे करें|

    6. Avoid Multi-tasks on computer 

    अगर user के computer का RAM कम है, तो computer पर बड़े software एक साथ नहीं चलाने चाहिये| क्योंकि बहुत सारे  software एक साथ run होने के लिये RAM पर ज्यादा जगह लेते है और सही जगह ना मिलने पर computer धीमी speed का शिकार हो सकता है| और कई मामलो मे shut down तक हो जाता है|

    Windows में Control Panel का इस्तेमाल कैसे किया जाता है|

    7. Remove Hidden Spy ware & virus from computer system 

    इंटरनेट का use करते वक्त या फिर किसी से file receive करते वक्त अगर साथ मे Hidden Spy ware या virus computer मे घुस आया है तो तुरंत system scan कर के उसका निकाल कर डाले| क्योंकि बहुत सारे ऐसे software होते है, जो कि एक file की double file create कर के space block करते रहते है या फिर internet use करने पर user की इजाज़त के बिना promoted software system मे install करते रहते है और ऐसा होने से computer की speed और सुरक्षा खतरे मे पड़ती जाती है|

    अपना IP Address कैसे Change किया जाता है|

    8. Use command prompt & registry clean–up to speed up your computer 

    Windows मे help and support option मे command prompt और registry clean up से जुड़ी details मौजूद होती है॰ अगर user computer field मे ठीक ठाक knowledge रखता है॰ तो command prompt & registry clean–up options से भी virus, spyware, hi-jack software, वगेरा remove कर के computer की speed बढ़ा सकता है| registry files काफी sensitive होती है, इसलिये registry edit बड़ी सावधानी से करे| गलत files edit या delete करना user के system को permanently damage कर सकता है|

    This answer accepted by Hitesh. on August 17, 2016 Earned 1 points.

    • 3740 views
    • 4 answers
    • 0 votes
  • Best Courses After 12th Commerce

    • Chartered Accountants
    • Lawyers (LLB, LLM)
    • Certified Public Accountants (CPA)
    • MBA / PGDM
    • Chartered Financial Analyst (CFA) and various other related Finance courses like FRM, CFP etc.
    • Company Secretaries (CS)
    • Cost & Management Accountants (CMA)
    • Actuarial Science (Actuary)
    • ACCA
    • Bachelors & Masters in various fields (there are many types of Bachelors & Masters courses) e.g. Bcom, BAF, BMS, BMM, BFI, BFM, BBA, etc. and e.g. Mcom, MFC, MFM, MFA, MHRD, MMS, MLW, etc.
    • MPSC, UPSC, IAS etc. i.e. Civil Services
    • Accounting Technician Course (ATC) offered by ICAI
    • Doctorate degrees like PhD
    • Event Management Course, Hotel Management Course
    • Investment Banking Courses
    • Stock Broker Certification Courses
    • Indian Institute of Banking and Finance (IIBF) Courses
    • Bachelor/Masters of Computer Applications (BCA / MCA)

     

     

    • 46765 views
    • 4 answers
    • 1 votes
    • 14708 views
    • 20 answers
    • 2 votes