Raman's Profile

2185
Points

Questions
120

Answers
112

  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना – PM MUDRA Yojana 

    प्रधानमंत्री मुद्रा योजना का मुद्रा ऋण देश के गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यापारों के वित्त जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार का उपक्रम है। इसके पीछे का भाव यह है की छोटे से व्यवसाय के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना जो की भारतीय कामकाजी आबादी में बहुमत को रोजगार प्रदान करता है।

    अपने शुभारम्भ से लेकर अब तक प्रधानमंत्री MUDRA योजना (PMMY) या मुद्रा (माइक्रो इकाइयों विकास पुनर्वित्त एजेंसी) बैंकों में, केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री MUDRA योजना के तहत अब तक Rs.24,000 करोड़  देश भर में वितरित कर दिए गए हैं।

     

    मुद्रा ऋण के बारे में – About Mudra Loan

    मुद्रा ऋण योजना के तहत सरकार ने एक 3-स्तर ऋण संरचना को  विभिन्न व्यवसायों की ओर लक्षित करते हुए उनके विस्तार और उनके व्यापर के स्तर के आधार पर विभाजित किया है। इस योजना के तीन स्तरों हैं:

    मुद्रा योजना के तहत ऋण के तीन प्रकार हैं:

    • शिशु: 50,000/ – रुपये तक के ऋण को कवर करता है
    • किशोर: 50,000 / – रुपये के ऊपर और 5 लाख रूपए तक ऋण को कवर करता है
    • तरुण: 5 लाख रूपये से ऊपर और 10 लाख रुपये तक के ऋण को कवर करने के लिए

    शिशु ऋण को स्टार्टअप के लिए डिज़ाइन किया गया है जबकि किशोर ऋण को कारोबार, जो पहले से ही शुरू कर दिए जा चुके हैं और खुद को स्थापित करने के लिए वित्तीय मदद चाहते हैं उनके लिए डिज़ाइन किया गया है। तरूण ऋण उन व्यवसायों के लिए है जो पहले से ही स्थापित हैं, लेकिन कारोबार के विस्तार के लिए वित्तीय सहायता चाहते हैं ।

    वर्तमान में मुद्रा योजना के तहत ऋण निम्नलिखित द्वारा दिए जा रहे हैं:

    • 27 पब्लिक बैंकों द्वारा
    • 17 निजी बैंकों द्वारा
    • 31 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों द्वारा
    • 4 सहकारी बैंकों द्वारा
    • 36 माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं द्वारा
    • 25 गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं द्वारा

     

    मुद्रा योजना ऋण लेने के लिए योग्यताए – Eligibility for MUDRA Loan 

    सभी गैर-खेती सूक्ष्म व्यवसाय जो आय सृजन और 10 लाख तक या उससे अधिक आर्थिक सहायता की जरूरत हो वे इस ऋण के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंदर आवेदन कर सकते हैं जो की माइक्रो यूनिट डेवलपमेंट और रिफिनांसिंग एजेंसी स्कीम के अंतगर्त शुरू की गई है।

    भाग लेने वाले बैंक, अर्थात् बैंक जो कि मुद्रा ऋण की देने के लिए तैयार हैं उनके सख्त पात्रता मानदंड है। उन सभी को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है की:

    • उनके पास 3 साल के सीधे लाभ रिकॉर्ड है।
    • उनके पास 3% या 3% से कम एनपीए है।
    • उनके पास कम से कम 9% की सीआरएआर है।
    • उनके पास कम से कम 100 करोड़ रुपए की शुद्ध संपत्ति है।

    जब तक इन आवश्यकताओं को बैंकों और गैर-बैंकिंग कंपनियों द्वारा पूरा नहीं किया जायेगा, वे किसी को MUDRA ऋण देने के योग्य नहीं होगा।

     

    मुद्रा ऋण लेने के लिए विधि – Method for MUDRA Loan

    मुद्रा ऋण निकालने के लिए, एक आवेदक (अर्थात् एक उधारकर्ता) को पहले ऋण देने वाले अपने या अपने निकटतम बैंक की पहचान करनी होगी और अपनी व्यापार की योजना के साथ व्यक्तिगत रूप से बैंक जाना होगा। ऋण आवेदन को एक व्यापक व्यापार की योजना, पहचान पत्र, एड्रेस प्रूफ और पासपोर्ट तस्वीरों के साथ जमा करना होगा। एक बार सभी डॉक्यूमेंटेशन पूरी हो जाने के बाद, बैंक व्यापार की योजना और जरूरत की समीक्षा करेंगे। स्वीकृत होने पर,  बैंक से ऋण मंजूर होगा।

     

    मुद्रा योजना की मुख्य विशेषताएं – MUDRA Yojana Key Features

    • माइक्रो यूनिट विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी लि. लोकप्रिय रूप में मुद्रा सूक्ष्म भारत सरकार द्वारा व्यापार का समर्थन करने के लिए गठित की गयी है। यह एक पुनर्वित्त एजेंसी है और एक प्रत्यक्ष वित्तीय संस्था नहीं है।
    • मुद्रा एक साझा मंच है, जहां इस तरह वित्तीय संस्थानों जैसे बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, एमएफआई, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियाँ जो उनकी सूक्ष्म और लघु उद्यमों की स्थापना के लिए तैयार हैं आवेदकों को मिलेंगे।
    • मुद्रा को वित्त वर्ष 2016 के बजट घोषणा के दौरान स्थापित किया गया है और भारत के वित्त मंत्री द्वारा घोषणा की गई थी।
    • मुद्रा प्रधानमंत्री मुद्रा योजना नाम की एक सरकारी योजना से भी जुड़ा हुई है, जिसके तहत आवेदकों अपने छोटे और लघु उद्यमों के लिए ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं।
    • मुद्रा केवल उन उद्यमों को जो गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यावसायिक क्षेत्रों के हैं उन्हें करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगा। इन क्षेत्रों के तहत एकमात्र प्रोप्रिएटर्स, साझेदारी फर्म, निर्माता, मशीनरी व्यापार और कई और कई अधिक को माना जा सकता है।

    सहायता की स्वीकृति संबंधित ऋण संस्था की योग्यता मानदंडों के अनुसार दी जाएगी। ऋण छोटे व्यापार की गतिविधियों / सूक्ष्म उद्यम शुरू करने के लिए जारी किया जाएगा| इन ऋण संस्थाओं को फिर वित्तीय सहायता के लिए मंजूर ऋण की पुनर्वित्त के लिए MUDRA बैंक जाना होगा|

     

    मुद्रा योजना का उद्देश्य – Objectives of Mudra Yojana

    • मुद्रा की स्थापना का मुख्य उद्देश्य गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यवसायों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है। भारत सरकार ने पहले ही कई योजनाएं शुरू की है जो छोटे व्यवसायों के लिए वित्तीय और तकनीकी सहायता प्रदान करती हैं। मुद्रा एक तरह से देश के सूक्ष्म क्षेत्र का समर्थन करने के लिए है।
    • खाद्य सेवा, कारीगरों, विक्रेताओं और शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मुद्रा द्वारा बढ़ाया जाएगा दोनों अन्य सूक्ष्म व्यवसायों की तरह छोटे व्यवसायों को सहायता प्रदान कर रहा है ।
    • मुद्रा आम लोग के साथ वित्तीय संस्थानों कनेक्ट करेगा जो की अपने सूक्ष्म उद्यमों के लिए जिनको ऋण की जरूरत होती है ।

    यदि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना को अच्छी तरह से लागू किया जायेगा, तो यह निश्चित रूप से इन छोटे व्यापार मालिकों जैसे कई लोगों के लिए एक वरदान साबित हो सकता है|

    Related Questions –

     

    • 142090 views
    • 3 answers
    • 2 votes
  • Invention of Mobile/Cell Phone – Martin Cooper

    RE: Mobile Ka aviskar kisane kiya

    Mobile Phone ka aaviskarak Martin Cooper ko mana jaata hai. 1973 me martin aur unki team ne Motorolla company me cellular phone ka aaviskar kiya tha.

    Alexander Graham Bell ne 1876 me telephone ka aaviskar kiya tha. Uske baad  sann 1900 me Reginald Fessenden ne sabse pahle radio tarange/wireless system se aavaj ko ek jagah se doosre jagah par pahunchaya tha.

    • 20619 views
    • 4 answers
    • 0 votes
  • SBI Ke Personal Loan Ki Rates 11% Se 18% tak hoti hai aur isme karib 2-3% processing charge bhi lag jaata hai. SBI Ke Normal Loans Ke Alava Bhi Kai Tarah Ke Loans hai Jaise:

    Product Interest Rate
    Average Personal Loan Rate
    11.5% – 18%
    SBI Saral Loan 17.65% – 17.65%
    SBI Xpress Credit Loan 11.90% – 15.00%
    SBI Pension Loan 12.45% – 12.45%
    SBI Festival Loan 12.50% – 16.60%
    SBI Jai Jawan Pension Loan 12.45% – 12.45%

    SBI Ke Personal Loan Kam se Kam 6 Months aur adhiktam 48 months ke liye milta hai.

     

    SBI Personal Loan EMI Calculation

    Personal Loan emergency ki situation me hi lena chahiye kyonki is par interest rates bahut hi jyada hoti hai. Udaharan ke liye agar aap 16.5% Percent Ki Rate se 2 lakh rupaye ka loan 4 years ke liye lete hai to aapki EMI Calculation is prakar rahegi

    • Loan EMI – ₹ 5,750
    • Total Interest Payable – ₹ 76,016
    • Total Payment – (Principal + Interest) – ₹ 2,76,016

     

    • 236 views
    • 2 answers
    • 1 votes
  • How to Check Bank Balance

    अगर आपका मोबाइल आपके Bank Account से लिंक नहीं हैं तो फिर आप अपने मोबाइल का उपयोग करके बैंक बैलेंस चेक नहीं कर सकते|

    ऐसी स्थिति में आप या तो किसी नजदीकी ATM पर जाकर अपने ATM का उपयोग करके Bank Balance चेक कर सकते हैं या फिर बैंक में जाकर ही बैंक बैलेंस चेक कर सकते हैं|

     

    Link Your Mobile Number With Bank Account

    बैंक अकाउंट के साथ मोबाइल नंबर जोड़ना आवश्यक हैं नहीं तो आपके बहुत सारे काम रुक सकते हैं| इसलिए बेहतर यह हैं कि आप अपने बैंक अकाउंट से अपने मोबाइल नंबर लिंक करवा दें ताकि आप घर बैठे ही मोबाइल से बैंकिंग कर सकें और मोबाइल नंबर ना जोड़ने की वजह से आपके अकाउंट में कोई समस्या ना आये|

    बैंक अकाउंट के साथ Mobile नंबर रजिस्टर करने के लिए आप चाहें तो बैंक में जाकर फॉर्म भरकर अपना Mobile नंबर रजिस्टर करवा सकते हैं या फिर ATM में जाकर अपना मोबाइल रजिस्टर या नया मोबाइल नंबर अपडेट कर सकते है| ATM में “रजिस्ट्रेशन” आप्शन में “मोबाइल रजिस्ट्रेशन” के आप्शन में जाकर “change mobile number” पर जाकर अपना मोबाइल नंबर अपडेट कर सकते हैं|

    Bank Account Me Mobile Number Kaise Jode

    Related:

    स्टेट बैंक में मोबाइल नंबर रजिस्टर या अपडेट कैसे करें

    पैन कार्ड को बैंक अकाउंट से लिंक कैसे करें 

    आईसीआईसीआई बैंक बैलेंस कैसे चेक करें

    SBI बैंक अकाउंट का मोबाइल पर Mini Statement कैसे देखें

    एसबीआई अकाउंट का बैंक बैलेंस कैसे चेक करें 

    • 1199 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • JCB Full Form – JOSEPH CYRIL BAMFORD

    JCB Ka Full Form

    JCB का पूरा नाम Josephy Cyril Bamford है. JCB का यह नाम इसके संस्थापक Joseph Cyril Bamford से मिला है.

    JCB एक मशीन बनाने वाली बहुराष्ट्रीय कंपनी है. जिसका मुख्यालय Rocester, Staffordshire, United Kingdom में है. यह लगभग 300 प्रकार की मशीनें बनाती है.मुख्यत: यह भारी निर्माण कार्यों में इस्तेमाल होने वाली मशीनें बनाती है. और इस कार्य में इसका दुनिया में तीसरा स्थान है.

    JCB की दुनियाभर में 20 से ज्यादा फैक्ट्रीयाँ है. जिनमें बनने वाली मशीनों को 150 से ज्यादा देशों में बेचा जाता है. हमारे देश भारत में भी JCB की मशीनों को खरीदा जाता है. और इनका उपयोग निर्माण कार्यों से लेकर कृषि कार्य में किया जाता है.

    Related:

    • 12485 views
    • 2 answers
    • 0 votes
  • Asked on October 4, 2018 in Finance.

    Mutual Fund: Direct Plan Vs Regular Plan

    Direct Plan में कोई भी व्यक्ति सीधे म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी से डायरेक्ट Mutual Fund खरीदता हैं (सामान्यत: म्यूच्यूअल फण्ड कंपनी की वेबसाइट से) जैसे अगर आप SBI का Mutual Fund खरीदना चाहते हैं तो आप डायरेक्ट SBI Mutual Fund की साईट पर जाकर Direct प्लम में म्यूच्यूअल फण्ड खरीद सकते हैं|

    Regular Plan में निवेशक किसी ब्रोकर या एजेंट के माध्यम से म्यूच्यूअल फण्ड खरीदता हैं| म्यूच्यूअल फण्ड कंपनिया रेगुलर प्लान में Broker या Agent को कमीशन देती हैं इस वजह से यह कमीशन Mutual Fund के Expense Ratio का हिस्सा बन जाता हैं| इस तरह अगर आप Regular plan के द्वारा Mutual Fund या SIP में निवेश करते हैं तो आपका Return या Profit कम हो जाता हैं|

    कौनसा प्लान लेना चाहिए

    आपको हमेशा Direct प्लान के द्वारा म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करना चाहिए| अगर आप रेगुलर प्लान के द्वार निवेश करते हैं तो आपका रिटर्न 0.5% से 1% प्रतिवर्ष कम मिलता हैं| लम्बी अवधि में यह 0.5% लाखों में हो सकता हैं| इसलिए हमेशा डायरेक्ट प्लान में निवेश करना चाहिए

    • 112 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • अपने बिज़नस को गूगल पर कैसे लिस्ट करें – How to List Your Business on Google MyBusiness

    अगर आप अपने व्यवसाय, दूकान या किसी भी छोटे बड़े बिज़नेस को इन्टरनेट पर दिखाना चाहते हैं तो इसके लिए बहुत सारे तरीके हैं जैसे आप अपनी वेबसाइट बना सकते हैं, आप सोशल मीडिया पर पेज बना सकते हैं आदि|

    लेकिन सबसे बेहतरीन और आसान तरीका यह हैं कि आप “Google MyBusiness” पर अपने व्यवसाय को लिस्ट कर सकते हैं|

    Google My Business क्या हैं

    Google MyBusiness गूगल की ही एक फ्री सेवा हैं जिस पर कोई भी व्यक्ति अपना Business लिस्ट कर सकता हैं और इसके बाद जब भी कोई व्यक्ति गूगल पर आपके व्यवसाय के बारे में सर्च करेगा तो आपके व्यवसाय की जानकारी गूगल में आ जाएगी|

    गूगल माय बिज़नेस पर एक बार रजिस्टर कर देने पर आपका व्यवसाय गूगल सर्च, गूगल मैप और गूगल प्लस आदि सभी जगहों पर दिखेगा|

    How to Register on Google My Business

    Google My Business पर लिस्टिंग के लिए आपके पास जीमेल अकाउंट होना चाहिए इसके बाद आप इस लिंक (https://www.google.com/business/) पर क्लिक करके Google MyBusiness पर जाकर Start Now पर क्लिक करके अपनी पूरी जानकारी भरकर अपने व्यवसाय को लिस्ट कर सकते हैं|

    यह बहुत ही आसान और सोशल मिडिया पर अकाउंट बनाने की तरह ही हैं|

    PIN Verification

    एक बार Google MyBusiness में अकाउंट बनाने और पूरी जानकारी भरने के बाद आपको अपने एड्रेस को सही भरकर PIN Verfication आप्शन को सेलेक्ट करना होगा|

    इसके बाद 1-2 हफ्ते के अन्दर ही आपके दिए हुए एड्रेस पर एक गूगल की तरफ डाक/पोस्ट आएगी जिसमें PIN होंगे| PIN मिलने के बाद आपको अपने Google Mybusiness अकाउंट में लॉग इन करना हैं और PIN वेरिफिकेशन वाले आप्शन में PIN डालने हैं|

    एक बार PIN वेरिफिकेशन होने के बाद आपका Business गूगल में लिस्ट हो जाएगा|

     

    Related:

    नए बिज़नेस के प्रमोशन के तरीके

    Mineral Water Business कैसे शुरू करें?

    मोबाइल रिपेयरिंग का बिज़नेस कैसे शुरू करें

    कपड़े का बिज़नेस कैसे करें

    व्यापार शुरू करने से सम्बंधित GST के प्रश्न 

    • 134 views
    • 1 answers
    • 0 votes
  • Asked on October 4, 2018 in Technology.

    कौनसा डोमेन एक्सटेंसन लें – .Com या .in

    .कॉम एक वैश्विक या इंटरनेशनल लेवल का डोमेन हैं जो कि आपकी वेबसाइट की पहुँच को पूरे विश्व तक पहुंचाता हैं वही .in डोमेन एक्सटेंशन भारत का स्पेसिफिक एक्सटेंसन यानि कि कंट्री स्पेसिफिक डोमेन एक्स्टेन्शन हैं जो कि भारत के यूजर के लिए बनी वेबसाइट के लिए ही सही रहता हैं|

    अगर आपकी साईट पर केवल भारत के ही लोग विजिट करते हैं तो आप .in डोमेन ले सकते हैं अन्यथा आपको .com डोमेन ही लेना चाहिए| ऐसा नहीं हैं कि अगर आपकी साईट के मुख्य विजिटर भारतीय हैं तो .in डोमेन से आपकी साईट पर ट्रैफिक ज्यादा आएगा| भारतीय विजिटर के .com और .in एक्सटेंसन एक तरह से ही परफॉर्म करेंगे लेकिन .com आपकी साईट को भारत के बाहर भी लोगों तक पहुंचाएंगा लेकिन .in में यह सिमित हो जाएगा|

    इसलिए अगर आपको .com डोमेन मिल रहा हैं तो .com ही लेना चाहिए| अगर आपकी ऑडियंस या Traffic पूरी तरह से भारत से ही आता हैं और आपको .com domain नहीं मिल रहा तो फिर आप .in डोमेन ले सकते हैं|

    इस आप Hostgator से सस्ते में डोमेन और होस्टिंग खरीद सकते हैं – डोमेन और सस्ती होस्टिंग

    Related:

    डोमेन क्या हैं

    Website Kaise Banaye

    Best Hosting Companies

    Shared Web hosting और VPS होस्टिंग में क्या अंतर हैं ?

    ब्लुहोस्ट पर वर्डप्रेस वेबसाइट कैसे बनाये ?

    WordPress Website के लिए सबसे Best और सस्ती Web Hosting कौनसी हैं

    • 124 views
    • 2 answers
    • 0 votes
  • भारत के सबसे स्वच्छ शहर – Cleanest Cities of India

    Cleanest Cities of India InfographicsSource - TimesofIndia

    • 6432 views
    • 3 answers
    • 0 votes
  • Map of Asia Showing Countries

    Asia MapSource: Wikipedia

    Area 44,579,000 km2 (17,212,000 sq mi)
    Population 4,462,676,731 (2016)
    Population density 100/km2 (260/sq mi)
    GDP (nominal) $28.23 trillion (2017)
    GDP (PPP) $56.62 trillion (2017)
    GDP per capita $6,690 (2017)
    Demonym Asian
    Countries 49 UN members,
    1 UN observer, 5 other states
    Time zones UTC+2 to UTC+12
    Internet TLD .asia

     

    Related: –

    • 22753 views
    • 3 answers
    • 0 votes