इंग्लिश मैं अच्छी ब्लॉग लिखने के तरीके बताइये.

किसी ने मुझसे पूछा की इंग्लिश में ब्लॉग हम कैसे अच्छे तरीके से लिख सकते है. क्यूंकि कइयों की इंग्लिश ग्रामर ठीक नहीं होती है, तो कइयों को ग्रामर को पता ही नहीं है. क्या कुछ ऐसे और भी रूल है, जिनको हमें फॉलो करने चाहिए.

Add Comment
  • 3 Answer(s)

      अगर कोई अंग्रेजी में ब्लॉग्गिंग करना चाहता हैं तो उसे इंग्लिश सीख लेनी चाहिए| क्योंकि अगर आप अंग्रेजी की छोटी सी भी गलती करेंगे तो फिर विजिटर कभी भी आपकी साईट पर वापस नहीं आएगा| आजकल तो हमारे पास “गूगल बाबा” का आशीर्वाद हैं और गूगल ट्रांसलेटर पहले से कहीं बेहतर हुआ हैं इसलिए ब्लॉग पोस्ट पब्लिश करने से पहले गूगल ट्रांसलेटर का उपयोग किया जा सकता हैं| इसके आलावा Grammerly एक बहुत ही अच्छा टूल हैं जो अंग्रेजी की लगभग 90% गलतियों को ढूंढ लेता हैं :

      Grammerly

      grammerly एक टूल हैं जो अंग्रेजी लेखन की गलतियों को ढूंढ कर उसे ठीक करता हैं| यह Word के Spelling Correction और अन्य Grammar Correction  Tools से कहीं बेहतर हैं| इसका उपयोग करके निश्चित रूप से आपको फायदा होगा| Grammerly के बारे में अधिक जानकारी के लिए इस लिंक को देखिये –

      Grammerly क्या हैं

      Answered on August 10, 2017.
      Add Comment

        सबसे पहली बात तो ये है की इंग्लिश में ही क्यों?
        अभी जैसा आपने ऊपर लिखा है अपने सवाल में की कइयों को इंग्लिश का ग्रामर पता नहीं होता लेकिन इंग्लिश में लिखना है. क्यों?
        आप ब्लॉग किसलिए लिखना चाहते हैं?
        आत्मसंतुष्टि के लिए, पैसे के लिए, शोहरत के लिए या किसी को दिखाने के लिए?
        बड़ा ही सीधा सा जवाब है, अगर आप ब्लॉग किसी को दिखाने के लिए लिखना चाहते हैं तो जैसे जी में आये, लिखिए.
        अगर आप आत्मसंतुष्टि के लिए चाहते हैं तो प्लीज जो भी भाषा आपको सबसे अच्छी आती है, उसमे लिखे. जो भी टॉपिक आपको सबसे अच्छी आती है, उसमे लिखें. और जो भी आप लोगो को सुनाना चाहते हैं, वो लिखें.
        अगर पैसे के लिए लिखना है तो दोनों बातों को इग्नोर कीजिये.

        Answered by Abhishek Singh.Answered by Abhishek Singh.

        खैर…अगर आपकी इंग्लिश कमजोर है तो ब्लॉग लिखने के तरीके ये होने चाहिए:
        -ये बात मान के चलिए की आपको इंग्लिश में सुधर तो लाना ही होगा. इसलिए म्हणत जरूरी है.
        -कोई चीज़ बिना सीखे, उसमे फ़ैल होने से अच्छा है की उसे सीख कर पास हुआ जाए.
        -ग्रामर की प्रैक्टिस पहले दिन से शुरू करें और उस दिन एक डायरी अपने पास रखना शुरू करें.
        -पहले दिन सिंपल वर्ड्स के साथ जो भी आप लिखना चाहते हैं, लिखें और डायरी में अपनी प्रोग्रेस दर्ज करें.
        -अपनी ग्रामर की तैयारी के साथ-साथ आप अपने पोस्ट में भी सुधर देखेंगे. इसे नोट करते रहिये.
        -पोस्ट लिखने के बाद ऑनलाइन ग्रामर चेकर टूल्स की मदद से आप अपने पोस्ट को चेक क्र सकते हैं ताकि किसी मिस्टेक को अवॉयड किया जा सके.
        -पोस्ट लिखने के बाद उसे दूसरी भाषाओँ में ट्रांसलेट करने की सुविधा भी अपने पेज पर रखें ताकि रीडर उसे अलग भाषा में भी पढ़ सकें.
        -कभी भी ग्रामर चेक अथवा इंग्लिश लैंग्वेज के लिए किसी लोकल आप अथवा छोटे-मोटे वेबसाइट के चक्कर में न पड़ें.
        -हमेशा अपनी भाषा सिंपल और पोस्ट शार्ट रखने की कोशिश करें.
        -पंक्चुएशन, वर्ड्स का सही तालमेल बनाये रखें.
        -इसके अलावा उन सब बातों का ध्यान रखें जो किसी भी भाषा के ब्लॉग लेखन में रखनी पड़ती हैं.

        धन्यवाद!

        Answered on August 9, 2017.
        Add Comment

          बहुत बहुत सुक्रिया दोस्तों

          Answered on August 11, 2017.
          Add Comment

          Your Answer

          By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.