क्या पृथ्वी शेषनाग पर टिकी हुई हैं?

    ऐसा कई बार कहा जाता हैं कि पृथ्वी जो हैं वो शेषनाग के फन या सर पर टिकी हुई हैं. क्या यह बात वैज्ञानिक तथ्यों से मेल खाती हैं? क्या विज्ञान ने इस बात का पूर्ण रूप से पता लगा लिया हैं कि पृथ्वी किस पर टिकी हुई हैं

    Add Comment
  • 1 Answer(s)

      क्या पृथ्वी शेषनाग पर टिकी है-

      भारत एक धार्मिक देश है जहा प्राचीन काल से ही लोगों का यही मानना है की हमारी पृथ्वी शेषनाग के फन पर टिकी है जिसके कारण पृथ्वी स्थिर है परन्तु इसके विपरीत कुछ लोगों का यह भी मानते है की ऐसा कुछ नहीं होता, वे समझते है की पृथ्वी अन्तरिक्षीय कारणों से एक जगह पर स्थिर है|

      पृथ्वी के शेषनाग पर टिके होने के कथन को हम 2 प्रकार की द्रष्टि से देख सकते है-

      1.      आस्था, पुराणों तथा धार्मिक ग्रंथो की द्रष्टि से-

      इस कथन का वर्णन महाभारत के आदिपर्व में मिलता है, जहा ग्रंथो में यह बताया गया है की भगवान  ब्रह्मा के 6 मानस पुत्र थे जिनमे से एक ‘मरीचि’ थे, उन्होंने अपनी इच्छा से कश्यप नामक प्रजापति पुत्र उत्पन्न किया। कश्यप ने दक्ष प्रजापति की 17 पुत्रियों से विवाह किया। उनमें से एक का नाम कद्रू था जिनसे 1000 बलशाली नाग पैदा हुए जिसमें सबसे बड़े भगवान् शेषनाग थे।

      ईश्वर की प्राप्ति कैसे होती है?

      महार्षि कश्यप की एक और पत्नी जिनका नाम विनता था, एक बार विनता और कद्रू दोनों विचरण कर रहे थे, तभी उन्हें दूर एक घोडा दिखाई दिया, कद्रू ने कहा की यह घोडा सफ़ेद है लेकिन इसकी पूछ काली है परन्तु विनता के कहा की पूरा घोडा सफेद है, इस बात को लेकर दोनों में शर्त लगी की जो हारा वो दुसरे की दासी बनेगी, दोनों में घोड़े को देखना अगले दिन तय हुआ|

      घर आकर कद्रू ने शर्त हारने के डर से अपने सर्प पुत्रो को कहा की वे उस घोड़े की पूछ में चिपक कर काली पूछ का आकर ले ले| विनता के प्रति कद्रू और अपने भाइयो के कपट की भावना को देखने के बाद शेषनाग ने अपने परिवार को और अपने भाइयो को छोड़ दिया और हिमालय तथा गंधमादन के पर्वत पर तपस्या के लिए चले गये| वे सिर्फ हवा के सहारे जीवन यापन करने लगे और अपनी ईन्द्रीयो पर काबू पाने के लिए ध्यान करने लगे|

      उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रम्हाजी प्रकट हुए और शेषनाग को वरदान दिया की तुम्हारी बुद्धि धर्म से कभी विचलित नहीं होगी| ब्रम्हाजी ने शेषनाग को यह भी कहा की यह पृथ्वी पहाड़ो, नदियों के कारण हमेशा हिलती रहती है तो क्या तुम इसे अपने उपर धारण कर सकते हो| इसके बाद शेषनाग ने पृथ्वी को अपने फन के उपर धारण कर लिया जिससे पृथ्वी स्थिर हो गयी|

      2.      विज्ञान की द्रष्टि से-

      विज्ञान ने कभी भी यह नहीं माना है की पृथ्वी शेषनाग के उपर टिकी है, विज्ञान यही मानता है की पृथ्वी और अन्य ग्रह अन्तरिक्षीय उर्जा, बल आदि कारणों से स्थिर है|

      सोरमंडल का सबसे बड़ा चाँद कोनसा है?

      एक बार अमेरिका में स्टीफन हॉकिंग  ने अपना भाषण दिया वहा एक औरत ने भाषण सुनने के बाद उनसे कहा की आप नहीं जानते की यह पृथ्वी एक बहुत बड़े कछुए के उपर टिकी है, स्टीफन हॉकिंग  ने उस औरत से पूछा की फिर वो कछुआ किसके ऊपर टिका है, यह सुनकर वो ओरत चुप हो गयी|

      विज्ञान यही कहता है की अन्तरिक्ष में अगर कोई वस्तु गतिशील है तो वह गतिशील ही रहेगी, अगर कोई स्थिर है तो वह स्थिर ही रहेगी जबतक की कोई अतिरिक्त बल उस वस्तु पर नहीं लगे| विज्ञान के आधार से धरती का शेष या आधार आकाश, अन्तरिक्ष, सूर्य, पानी है जिससे सभी  की सरंचना सम्भव है|

      Related Links-

       

      Answered on December 5, 2018.
      Add Comment

      Your Answer

      By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.