ब्लॉगिंग में Privacy policy सेट करना क्यूँ जरूरी है – why blogger must set privacy policy?

blog me privacy policy set karne ke labh kya hai?

Add Comment
  • 2 Answer(s)

    Privacy policy की अहेमियत 

    • Google adsene का approval लेना है तो यह page होना ज़रूरी है।
    • किसी भी ब्लॉग पर Privacy policy page होने से professional impression पड़ती है।
    • search engine में rank आगे लाना है तो contact, about, privacy policy यह pages सेट होना ज़रूरी है।
    • spam comment या ब्लॉग policy violet करने वाले visitor के लिए यह page warning का काम करता है।
    • ब्लॉग के नियम क्या है और visitors और user को कैसे behave करना है site पर उसका info देता है।
    • गूगल आप की साइट के pages और पोस्ट जल्दी index करेगा।

    Privacy policy create कैसे करें 

    इस काम को बड़ी आसानी से किया जा सकता है, इंटरनेट पर कई सारी ऐसी website मौजूद हैं जो यह सुविधा मुफ्त में प्रदान करती हैं।

    उदाहरण के तौर पर  “Serprank website”

    Serprank website वैबसाइट पर जा कर अपनी डिटेल्स register कर दें।

    अब Register हो जाने के बाद  Serprank Privacy Page Generator पेज पर  क्लिक करना होगा।

    अब header menu में से  Members Area >> Memeber Tools टैब पर क्लिक करें .

    इस जगह आप को अपने website की डिटेल्स डालनी होगी….जैसे की …..

    1)blog का  URL address

    2) Email address

    3) cookies accept or reject (tick).

    4) Advertiser information मे  google adsence के आगे  tick लगाएँ

    5) अब लास्ट में create my policy page पर क्लिक करें

    Privacy policy page कैसे सेट करे

    Step:-1 Blogger dashboard पर जाएँ।

    Step:-2 New page पर click करें।

    Step:-3 अब यहा एक न्यू ब्लैंक विंडो ओपन होगी यहाँ आप को title option में अपने  page का title लिखना है और summery में  serprank site से  copy किया  text paste करना होगा।

    Step:-4 अब पेज को publish button पर  click कर के पब्लिश कर दें।

    That is all

    Answered on March 31, 2017.
    Add Comment

    Privacy Policy – गोपनीयता नीति

    Privacy Policy एक ब्लॉग या वेबसाईट पर किए/होने वाले व्यवहार से संबंधित नियम और सूचना का एक दस्तावेज होता है.

    इस गोपनीयता नीति में निम्नलिखित बाते शामिल हो सकती है-

    1. User द्वारा क्या जानकारी इस ब्लॉग या वेबसाईट द्वारा Record की जाती है. और इस जानकारी का कैसे और कहाँ उपयोग किया जाता है.
    2. किस प्रकार की निजी जानकारी Users से लि जाती है और इस निजी जानकारी का कैसे और कहाँ उपयोग किया जाता है. और ये ब्लॉग या वेबसाईट इस जानकारी को कैसे Protect करती है.
    3. क्या User द्वारा दी जाने वाली जानकारी को किसी Third Party को बेचा जा सकता है. इस बारे में भी इस दस्तावेज में विस्तार लिखा जाता है.
    4. इस ब्लॉग या वेबसाईट पर उपलव्ध सूचना का उपयोग एक User किस प्रकार कर सकता है. इस बारे में भी नियमों को लिखा जाता है.
    5. इस ब्लॉग़ या वेबसाईट पर उपलब्ध बाहरी Links के बारे में सूचना.

    गोपनीयता नीति क्यों लिखना जरूरी है?

    अभी आपने जाना है कि एक गोपनीयता दस्तावेज क्या होता है. यदि आपने ऊपर लिखि हुई जानकारी को ठीक से पढा है तो मैं पूरे विश्वास से कह सकता हूँ कि आप इसके उपयोग के बारे में जरूर जान गए होंगे. नीचे मैंने इसकी आवश्यकता एक ब्लॉग़ या वेबसाईट के लिए क्यों होती है. इस बारे में बताने कि एक कोशिश की है.

    1. इस दस्तावेज में ब्लॉग या वेबसाईट पर होने/किए जाने वाले व्यवहार के बारे में लिखा होता है. इसलिए User को यह अनावश्यक गतिविधिया करने से रोकने में मददगार साबित होता है.
    2. इस दस्तावेज से ब्लॉग या वेबसाईट पेशेवर रूप मिलता है. जिससे Search Engines और User पंसद करते है.
    3. यह दस्तावेज ब्लॉग मालिक को कानूनी सुरक्षा प्रदान करता है.

     

     

     

    Answered on April 17, 2017.
    Add Comment

    Your Answer

    By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.