क्या संस्कृत सभी भाषाओँ की जननी हैं? Has Sanskrit influenced Latin

सभी शब्दों की उत्पत्ति लैटिन भाषा से हुई है तो संस्कृत सभी भाषाओं की जननी कैसे है।?

Add Comment
  • 1 Answer(s)

      Oldest Language – Sanskrit Vs Latin

      यह चर्चा कई वर्षों से हो रही हैं कि सबसे पुरानी भाषा कौनसी हैं और इसमें विशेषज्ञों की राय अलग अलग हैं| कई भारतीय सभ्यता के जानकार यही कहते हैं कि संस्कृत विश्व की सबसे पुरानी भाषा हैं और पश्चिम के विशेषज्ञ लैटिन भाषा को मानते हैं|

      मैंने एक जगह पर पढ़ा था कि संस्कृत और लैटिन सिस्टर लैंग्वेज हैं यानि कि दोनों का उद्गम साथ साथ हुआ था| इसी प्लेटफार्म पर कोई यह कह रहा था कि संस्कृत लैटिन की मदर लैंग्वेज हैं यानि कि लैटिन का उद्गम संस्कृत से हुआ|

      लैटिन और संस्कृत में समानता

      जब कई विशेषज्ञों ने इस पर शोध करना चाहा तो वे हैरान रह गए कि संस्कृत और लैटिन भाषा के शब्दों में एक समान पैटर्न हैं जैसे:

      Meaning:SanskritLatin:
      “three”trayastres
      “seven”saptaseptem
      “eight”ashtaocto
      “nine”navanovem
      “snake”sarpaserpens
      “king”rajaregem
      “god”devasdivus (“divine”)

      इससे यह पता चलता हैं कि दोनों भाषाएँ निश्चित रूप से आपस में जुड़ी हुई हैं| इस आधार पर कुछ विशेषज्ञ यह कहते हैं कि संस्कृत ही सभी भाषाओँ कि जननी हैं क्योंकि हिन्दू सभ्यता के महान ग्रन्थ और वेद संस्कृत में ही लिखे गए थे| इसके अलावा सभी विद्वान् यह मानते हैं कि संस्कृत अन्य भाषाओँ से कहीं अधिक पूर्ण हैं|

      यही नहीं बहुत सारी भाषाओँ के शब्द ऐसा लगता हैं कि संस्कृत से ही लिए गए हैं:

      “father”“brother”
      pitar (Sanskrit)

      pater (Latin)

      pater (Greek)

      padre (Spanish)

      pere (French)

      father (English)

      fadar (Gothic)

      fa∂ir (Old Norse)

      vader (German)

      athir (Old Irish–with loss of original consonant)

      bhratar (Sanskrit)

      frater (Latin)

      phrater (Greek)

      frere (French)

      brother (Modern English)

      brothor (Saxon)

      bruder (German)

      broeder (Dutch)

      bratu (Old Slavic)

      brathair (Old Irish)

      कुछ लोग का कहना हैं कि यह भी तो हो सकता हैं कि संस्कृत के शब्द लैटिन या किसी और भाषा से लिए गए हो| लेकिन ऐसा लगता हैं कि संस्कृत से ही दूसरी भाषाओँ के शब्दों को बनाया गया हैं क्योंकि संस्कृत के सभी शब्द सबसे कठिन हैं और अगर किसी भाषा से शब्दों को लिया जाता हैं तो उसे सरल बनाया जाता हैं न कि कठिन इसलिए ऐसा लगता हैं कि अन्य सभी भाषाओँ में संस्कृत के शब्दों को लेकर सरल बनाया गया|

      एक बात यह भी हैं कि अगर हम दस भाषाएँ को देखें और इनमें से किसी दो भाषाओँ के शब्द उठाएं तो उसमें समानता नहीं मिलेगी लेकिन संस्कृत के साथ ऐसा नहीं हैं, लगभग हर भाषा के शब्द संस्कृत के शब्दों से मिलते हैं:

      Sarpa(sanskrit) –> Serpentum(latin) –> Snake(english)
      Naas(sanskrit) –> Nasus (latin) –> Nose
      Patha(sanskrit) –> Pathes(greek) –> Path(english)
      Danta(sanskrit) –> Dentis(latin) –> Dental(english)
      Dwaar(sanskrit) –> Doru(latin) –> Door(english)
      Dwi(sanskrit) –> Dio (greek)–> Two(english)
      Ashta (sanskrit) –> Okto (greek) –> Eight(english)
      Bhrathr(sanskrit) –> Phrater(latin) –>brother(english)
      madhyam(sanskrit) –> medium(latin) –> medium(english)
      Loka(place in sanskrit) –> Locus(latin) –> Locale(english)
      Yauvana(youth in sanskrit) –> Juvenelis(latin) –> Juvenile(english)
      Nava(means new in sanskrit) –> Novus(latin) –> Nova/New (english)
      Thri(sanskrit) –> Treis (greek) –> Three(english)
      vachas(meaning speech) –> Vocem(latin) –> Voice(english)
      Pithr(sanskrit)–>Pater(latin)–>father(english)
      Navagatha(sanskrit)–> navigationem(latin) –> navigation(english)

       

      Answered on May 14, 2019.
      Add Comment

      Your Answer

      By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.