Blog से Content Copy करने वालों की रिपोर्ट कहाँ पर और कैसे करें?

कुछ लोग Blog से Content Copy करके अपने ब्लॉग पर Post कर देते हैं और पता नहीं कैसे उनके Articles भी Google Search Result में Top पर आ जाते हैं| कृपया बताएं इसका समाधान हो सकता हैं| इसकी Complaint कैसे करें और Google को यह कैसे पता चलेगा कि किसका Content Original हैं और किसका Copied?

Add Comment
  • 1 Answer(s)

      Copied Content की Google Search को Report करके हटवाएं 

      सबसे पहली बात तो यह हैं कि अगर आप High-Quality Content लिख रहे हो और आपने Google Search Console में अपनी Website को Add करके Sitemap सबमिट कर दिया हैं तो आपके साथ यह समस्या नहीं आनी चाहिए कि Copy करने वाली वेबसाइट की Post आपसे पहले Show हो रही हो| फिर भी अगर आपके साथ यह समस्या हैं तो आप Google Help में Copyright Removal Form भरकर Content को हटवा सकते हैं| इसके लिए आप निम्न लिंक पर जाएं :

      Report alleged copyright infringement: Web Search

      Google कैसे पता लगता हैं कि किसका Content, Original हैं 

      गूगल विश्व का सबसे बेहतरीन Search Engine हैं और अगर आपने अपनी Site का Sitemap Submit कर रखा हैं और Search Console में Add कर रखा हैं तो Google आपकी साईट को लगातार Crawl करता रहता हैं और इस कारण उनको पता चल जाता हैं कि Orginal Content किसका हैं और Content Copy कौन कर रहा हैं| कभी कभी जब आपकी Site सही तरीके से Crawl नहीं होती या आपके Robots.txt फाइल में Crowling को Disable कर रखा हो तो फिर आपके साथ यह समस्या आ सकती हैं क्योंकि आपकी साईट ढंग से Crawl नहीं हो रही होगी| इसलिए एक बार Search Console में Login करके देख लें कि कोई दिक्कत तो नहीं हैं|

      मुझे लगता हैं कि अगर आपकी साईट सही चल रही हैं और आप हाई क्वालिटी कंटेंट लिख रहे हैं तो Content कॉपी करने वालो को रोकने या उस पर ध्यान देने की जरूरत नहीं हैं क्योंकि वे मानने वाले नहीं और उनकी साईट कभी भी रैंक नहीं कर पाएगी| हो सकता हैं कि कुछ टेक्निकल समस्या की वजह से वे शोर्ट टर्म में लाभ ले लें लेकिन लॉन्ग टर्म में उन्हें ब्लॉग बंद करना पड़ता हैं|

      Answered on September 22, 2017.

      Thanks a lot

      on September 23, 2017.
      Add Comment

      Your Answer

      By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.