दुनिया के 7 अजूबे क्या हैं? जानकारी दीजिये – Seven Wonders of The World

Duniya Ke Saat Ajube Kaun Se Hai? Duniya Ke Saath Ajubo Ki Visheshta aur Naam Bataiye aur Unke Baare me puri Jankari Dijiye?

Add Comment
  • 1 Answer(s)

      New Seven Wonders of the World – दुनियाँ के 7 अजूबे

      • ताजमहल – Taj Mahal – ताजमहल प्यार की निशानी है। यह इमारत संगेमर्मर से बनी हुई है। शाहजहाँ नामक बादशाह नें यह इमारत अपनी बेगम मुमताज़ महल के लिये बनाई थी। इस भव्य इमारत को बनवाने के लिये 22 साल लगे थे।
      • क्राइस्ट द रीडिमर की प्रतिमा (Christ the redeemer) – यह प्रतिमा ब्राज़ील के रियो डे जेनेरों शहर में स्थापित है। यह ईसा मसीह की मूर्ति है। इस मूर्ति की ऊंचाई करीब 130 फुट है (with base)। और 98 फीट चौड़ी है। इस मूर्ति का कुल वज़न 635 टन बताया जाता है। यह मूर्ति तिजूका फॉरेस्ट national park में कोर्कोवाड़ों पर्वत के शिखर पर स्थापित है। इस मूर्ति को बनाने के लिये पत्थर और कांक्रीट का उपयोग किया गया था। इस विशाल मूर्ति का सर्जन वर्ष 1922 से 1931 के बीछ हुआ था।
      • चीन की दीवार (The Great Wall of China) – यह विशाल दीवार पत्थर और मिट्टी से बनी हुई है। इस दीवार को china के अलग अलग शाशकों नें तैयार करवाया है। इस दीवार को बनाने का मुख्य हेतु उत्तरी मंगोल के हमलावरों से रक्षा पाने का था। इस दीवार को बनाने का कार्य 5 वी शताब्दी ईसा पूर्व से ले कर 16 वी शताब्दी ईसा पूर्व तक चला। इस विशाल दीवार को अन्तरिक्ष से भी देखा जा सकता है। इस दीवार की लंबाई 4000 मिल है यानी की करीब 6400 किलो मिटर। दीवार की चौड़ाई इतनी है की इसमें 10 व्यक्ति एक साथ चल सकते हैं।
      • पेत्रा (पेत्रा) – यह बेमिसाल नगरी पत्थरों पर तराशी गयी इमारतों के लिये प्रसिद्ध है। वहाँ की पानी वाहन प्रणाली भी उंच कोटी की है। पेत्रा शहर की इमारतें लाल बलुआ पत्थर से बनाई गयी हैं। इतिहास कारों के मुताबिक इसका निर्माण 1200 ईसा पूर्व के आसपास हुआ था। वातमान समय में यह एक पर्यटन स्थल है।
      • कोलोसियम (colosseum) – यह इमारत इटली देश के रोम शहर में मध्य निर्मित रोमन एम्पायर का सब से बड़ा एलिप्टिकल एम्फीथिएटर है। इसका निर्माण तत्कालीन शाशक वेस्पियन नें 70 वी सदी में शुरू किया था और इसे शाशक टायटस नें 80 वी सदी में पूरा किया था। इस विशाल स्टेडियम में 50 हज़ार लोग इकट्ठा हो कर जंगली जानवर और इन्सान (योद्धा) की लड़ाई देखते थे। पूर्व काल में रोमन वासी इस खूनी खेल को काफी पसंद करते थे। उस समय विभिन्न संस्कृतिक कार्यक्रोमो के लिये भी इस इमारत का उपयोगी किया जाता था। कहा जाता है की योद्धा और पशुओं की लड़ाई में लाखों बे-ज़ुबान जानवर और इन्सान मरे हैं।
      • माचू पिचचू (machu picchu) – दक्षिण अमरीकी देश पेरु में स्थित एक कोलंबस-पूर्व युग इका सभ्यता से ताल्लुक रखने वाली प्राचीन जगह है। यह समुद्र तल से 2430 मीटर ऊंचाई पर है। उरुबाम्बा घाटी जहां से उरुबाम्बा नदी बहेती है। वहीं ऊपर शिखर पर यह जगह है। 1430 ई के आसपास इका सभ्यता के लोगो नें अपने शाशकों के आधिकारिक स्थल के स्वरूप में शुरू किया था। करीब 100 वर्ष बाद वहाँ स्पेनिश सेना नें आक्रमण किया था और उस जगह को जीत लिया था तब से उस जगह को अधूरा छोड़ दिया गया था। और ऐसा भी कहा जाता है की वहाँ पर चेचक बीमारी फ़ेल जाने की वजह से उन्होने वह जगह छोड़ दी थी।
      • चिचेन इट्जा (chechain itza) – यह जगह मेक्सिको में स्थित है। यह एक शहर था जिसे माया सभ्यता के लोगों नें बनाया था। यह शहर वास्तु कला की कारिगिरी का बहेतरीन नमूना है। शहर के मध्य भाग में कुकलाकन का मंदिर है, इस की सभी चारों दिशाओं में 91 सीढ़ियाँ है। और ऊपर 365 वे दिन के लिये ऊपर चबूतरा है। इस तरह ये पूरे साल भर का प्रतीक होता है।   

       

      Old seven wonders of the world – प्राचीन समय के 7 अजूबे

      • गिज़ा के पिरामिड
      • रोडेस की विशाल मूर्ति
      • अर्टेमिस का मंदिर
      • माउसोलस का मकबरा
      • एलेक्ज़ेन्ड्रिया का रोशनी घर
      • बेबीलोन के जुलते बाग
      • ओलम्पिया में जियस की मूर्ति

       

      Answered on March 2, 2017.
      Add Comment

      Your Answer

      By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.