क्या Blogging, Freelancing और Google Adsense से होने वाली Income पर GST लगेगा?

Yadi Bloggers par GST lagega to Kripya bataye ki Bloggers ki kis kis earning par GST lagega aur kitna?

Add Comment
  • 2 Answer(s)

    Applicability of GST on Blogging, Internet and Adsense Income

    पहली बात मैं आपको बता दूं कि इन्टरनेट पर GST On Bloggers से सम्बंधित जितने भी लेख प्रकाशित हुए हैं उनमें से 90 प्रतिशत लेखों में सही जानकारी नहीं हैं और उन्होंने कुछ न कुछ गलत लिखा हैं| इस विषय पर आधे से ज्यादा CA भी आपको पूरी जानकारी नहीं दे पायेंगे तो फिर एक सामान्य ब्लॉगर जो tech या अन्य विषय पर लिखता हैं वह कैसे बताएगा कि Adsense Earning पर GST लगेगा या नहीं|

    यहाँ तक कि इकोनॉमिक्स टाइम्स ने भी Cleartax.in के एक्सपर्ट के हवाले से आर्टिकल छपा था जिसमें भी 100% Accurate जानकारी नहीं थी और उस आर्टिकल के बारे में बाद में Cleartax.in को अपनी वेबसाइट पर दूसरा आर्टिकल छापकर सफाई देनी पड़ी कि वे क्या कहना चाहते थे लेकिन बाद में Cleartax ने भी स्थति को साफ़ नहीं किया|

    मैंने तो कुछ ब्लोग्स पर ऐसे ऐसे लेख भी देखे हैं कि अगर उस लेख के अनुसार अगर कोई कदम उठा ले तो बस उसकी लग गई|

    ज्यादात्तर CAs को यह नहीं पता होता हैं कि Adsense किस तरह से काम करता हैं इसलिए सबसे पहले तो आपको उन्हें Transaction को समझाना पड़ेगा उसके बाद वे एनालिसिस करके यह बता सकते हैं कि Internet Earning पर GST लगेगा या नहीं|

    इसलिए आपको इस विषय पर वही CA या GST Expert बता सकता हैं जो या तो खुद ब्लॉगर हो या उसे Adsense के बारे में सही जानकारी हो| इसलिए मैं आपसे यही निवेदन करूंगा कि आप किसी भी बात पर विश्वास करने से पहले उसे खुद अच्छे से समझने की कोशिश करें| मैं यह केवल Bloggers और अन्य Internet Entrepreneurs  को बाते ज्यादा क्लेअरिटी समझ में आये इसलिए लिख रहा हूँ|

    GST Law बहुत ही Complex हैं और यहाँ पर जो कुछ भी लिख रहा हूँ वो GST की मेरी समझ के अनुसार मेरा ओपिनियन हैं| हो सकता हैं कि किसी और CA का इस विषय पर ओपिनियन अलग हो| इसलिए यहाँ पर किसी भी बात विश्वास करने से पहले खुद अछे से  Research कर लें और अपने CA के साथ Consult करके ही कुछ Decision लें|

    Related GST Rules

    GST एक अप्रत्यक्ष कर हैं जो कि किसी भी वस्तु या सेवा की “Supply” पर लगता हैं| यहाँ पर वस्तु और सेवा की डेफिनिशन बहुत ही ब्रॉड हैं जो लगभग हर प्रकार के बिज़नेस को कवर कर लेती हैं| CGST Act की Section (102) में “सेवा” की डेफिनिशन दी हुई हैं जिसके अनुसार –

    Definition of Service Under GST

    “वह सब कुछ जो Goods नहीं हैं वह “service (सेवा)” हैं|”

    इस तरह Internet के माध्यम से Earning के जितने भी तरीके हैं उनमें से ज्यादात्तर इसमें कवर हो जाते हैं इसलिए ज्यादात्तर ब्लॉगर जो यह समझते हैं कि वे “Google Adsense” को कोई Service नहीं दे रहे हैं वे पूरी तरह से गलत हैं| Law में लॉजिक नहीं चलता, जो Act में लिखा हुआ हैं वही चलता हैं यही कारण हैं कभी कभी जिन्दा सामने खड़े आदमी को भी कोर्ट में यह साबित करना पड़ता हैं कि वह जिन्दा हैं|

    अब यहाँ तक तो लगभग यह साबित हो गया कि ज्यादात्तर Internet से Earn करने वाले Goods या Services की सप्लाई करते हैं इसलिए वे GST के दायरे में आ जाते हैं लेकिन क्या अब हम यह discuss करते हैं कि GST देना किसे पड़ेगा और Registration किसे लेना पड़ेगा?

    GST की Basic Exemption Limit और Registration Requirement

    GST में सामान्य रूप से 20 लाख रूपये (उत्तरी-पूर्वी राज्यों में यह सीमा 10 लाख रूपये हैं) तक रजिस्ट्रेशन लेने की आवश्यकता नहीं हैं लेकिन कुछ परिस्थितियां ऐसी हैं जिसमें रजिस्ट्रेशन लेना आवश्यक भले ही टर्नओवर Exemption Limit से कम हो| ऐसी कुछ स्थितिया इस प्रकार है:

    GST Me Compulsory Registration

    इन परिस्थितियों में से 2 पॉइंट्स इम्पोर्टेन्ट हैं –

    1. E-Commerce Operator
    2. Person Making Inter-State Supply

    यह दोनों पॉइंट Bloggers, Youtubers और अन्य Freelancers की ज्यादात्तर सर्विसेज को Cover लेते हैं क्योंकि उदाहरण के लिए अगर आप एक blogger या Youtuber है और आप राजस्थान में रहते हैं और Advertising कंपनी जिसके Ads आपने लगाये हैं वह आपके राज्य के बाहर स्थित हैं तो इसका मतलब यह हुआ कि आप राज्य के बाहर Service की Supply कर रहे हैं या फिर Inter-State Supply कर रहे हैं| इस तरह आपको GST लेना आवश्यक होगा भले ही आपका Turnover 5000 ही हो| इसी प्रकार अगर कोई इसमें Cover नहीं होता हैं तो वह E-Commerce operator की डेफिनिशन में कवर हो जाता हैं|

    सरकार इस नियमों के माध्यम से बड़े व्यवसायियों और E-कॉमर्स कंपनियों को cover करना चाहती थी लेकिन Law नया हैं इसलिए जाने-अनजाने में ही इसने छोटे छोटे Internet-Entrepreneurs  को भी cover कर लिया हैं|

    इस प्रकार इन्टरनेट से कमाई करने वालों के लिए यह एक मुसीबत होगी कि अगर सरकार कोई Clarification issue नहीं करती हैं तो उन्हें रजिस्ट्रेशन लेना अनिवार्य हो जाएगा|

    अगर आपने रजिस्ट्रेशन करवाया तो आपको monthly Returns भी file करने पड़ेंगे|

    क्या हर तरह की Income पर GST देना पड़ेगा?

    GST में रजिस्ट्रेशन सम्बंधित बात तो ऊपर clear हो गई अगर आप Inter-State Supply करेंगे तो रजिस्ट्रेशन जरूरी हैं भले ही आपका Turnover कितना भी हो| लेकिन क्या रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद आपको हर Internet से होने वाली हर Income पर टैक्स देना पड़ेगा?

    इसका सीधा सा जवाब यह हैं कि अगर आपने रजिस्ट्रेशन करवा लिया हैं तो फिर आप टैक्स के दायरे में आ जाएगें और आपको सामान्य टैक्सपेयर की तरह ही टैक्स देना पड़ेगा जब तक की कोई विशेष छूट(Exemption) न हो या आपकी सर्विस एक्सपोर्ट के दायरे में न आती हो|

    इसका मतलब यह हैं कि अगर आप कोई ऐसी सर्विस की Inter-State Supply कर रहे हैं जो अन्य तरीके से exempt नहीं हैं तो आपको रजिस्ट्रेशन लेकर उस पर टैक्स देना पड़ेगा, भले ही आपका टर्नओवर कितना भी हो| इस बात को GST Department के ऑफिसियल twitter handle पर कई बार पूछा जा चूका हैं –

    RE: क्या Blogging, Freelancing और Google Adsense से होने वाली पर GST लगेगा?Twitter FAQ by GST Department

    कहने का मतलब यह हैं कि आपको यह देखना पड़ेगा कि आप सर्विस अपने राज्य के अन्दर ही Supply कर रहे हैं आया State के बाहर| और GST में सामान्य रूप से “Place of Supply”, सर्विस प्राप्तकर्ता की लोकेशन होती हैं| तो इस प्रकार इन्टरनेट का उपयोग करके ब्लॉगर और फ्रीलांसर द्वारा प्रदान की जाने वाली ज्यादात्तर सर्विसेज Inter-state supply ही होती हैं क्योंकि ज्यादात्तर मामलों में सर्विसेज को प्राप्त करने वाला राज्य के बाहर ही होता हैं|

    तो इस बात से यह निष्कर्ष निकलता हैं कि अगर आप सामान्य रूप से Inter-State Supply कर रहे हैं और वो किसी अन्य तरीके (जैसे एक्सपोर्ट) से छूट प्राप्त नहीं हैं तो उस पर आपको 18% GST (सामान्य दर, कुछ सर्विसेज की दर अलग हो सकती हैं) देना पड़ेगा|

    उदाहरण के लिए अगर कोई गुजरात का ब्लॉगर, मुंबई की एड कंपनी के विज्ञापन अपने ब्लॉग पर लगाता हैं यानि की उस विज्ञापन कंपनी को अपनी सेवाओं की Inter-State Supply करता हैं तो फिर उसे GST देना होगा और वो Invoice में GST दिखाकर विज्ञापन कंपनी से लेगा और सरकार को जमा करवाएगा| अगर विज्ञापन कंपनी अलग से GST का भुगतान नहीं करती तो यह माना जाएगा कि उस ब्लॉगर को जो amount प्राप्त हुआ हैं उसमें gst शामिल हैं इस प्रकार GST Calculate करके सरकार को जमा करवाना पड़ेगा|

    यह example आप अलग अलग सेवाओं जैसे Consultancy, Logo Designing आदि के लिए भी उपयोग में ले सकते हैं जहाँ सर्विस प्रोवाइडर एक राज्य से दूसरे राज्य में आपूर्ति करता हैं|

    Google Adsense Income पर GST लगेगा या नहीं?

    अब तक यह बता दिया हैं कि अगर भारत में ही कोई वस्तुओं और सेवाओं की Inter-State Supply करता हैं तो उसे 20 लाख रूपये की छूट (उत्तरी पूर्वी राज्यों में 10 लाख रूपये) का फायदा नहीं मिलेगा और उसे Registration लेकर टैक्स भरना पड़ेगा जब तक कि वह supply किसी अन्य तरीके से exempt न हो

    लेकिन Google Adsense Earning में परिस्थिति कुछ अलग हो जाती हैं क्योंकि google adsense की जो कंपनी हैं वो विदेश में स्थित हैं (ज्यादात्तर मामलों में Google Asia Pacific Pte. Ltd., Singapore कुछ मामलों में परिस्थितियां अलग हो सकती हैं इसलिए पब्लिशर अपना adsense चेक करें) और पब्लिशर या website owner को adsense income होती हैं वो US डॉलर में प्राप्त होती हैं| इस कारण यह मामला “Export of service” में आ सकता हैं और अगर ऐसा हो जाता हैं तो फिर Website Owner को GST देने की जरूरत नहीं पड़ेगी उल्टा उसने जो अपनी Input Services जैसे Hosting आदि पर जो Input GST चुकाया हैं उसका Refund भी ले सकता हैं|

    एक बात पहले बता दूं कि चाहे यह Export of service हो या न हो आपको Registration तो लेना ही पड़ेगा क्योंकि इतना तो तय हैं कि आप अपने राज्य के बाहर Services की Supply यानि कि Inter-State Supply कर रहे हैं|

    अब मुख्य बात पर आते हैं कि क्या Google Earning, “Export of Service” हैं या नहीं?

    अगर आप ज्यादातर experts को पूछोगे तो वो इस बात को ज्यादा clearly नहीं बताएँगे और लेकिन मेरे विचार से (यह मेरा ओपिनियन हैं, जो जरूरी नहीं सही हो) यह “export of service” की सारी शर्तों को पूरा कर रही हैं इसलिए यह Export of Service हैं| IGST Act की धारा 2(6) में Export of Service का अर्थ दिया गया हैं जो इस प्रकार हैं –

    Export of Service Definition GSTGST on Google Adsense

    इसमें मुख्य रूप से यह कहा गया हैं कि

    • सर्विस प्रोवाइडर इंडिया का होना चाहिए, – Blogger, Youtuber etc
    • सर्विस रिसीवर भारत के बार का होना चाहिए – Google Adsense
    • Place of Supply भारत के बाहर होनी चाहिए – आगे discuss करते हैं
    • पैसा फॉरेन करेंसी में रिसीव होना चाहिए – Google Adsense से US डॉलर में Receive होता हैं|

    ऊपर की लगभग सभी शर्ते Clearly पूरी हो रही हैं और अगर Place of Supply की बात करें तो मेरे अनुसार Google Adsense या Internet Advertisement सर्विसेज “online information and database access or retrieval services” के अंतर्गत आती हैं-

    Definition of Online Information and database retrieval servicesInternet Advertisement in GST

    और IGST Act की धारा 13(12) के अनुसार इस सर्विसेज के case में Place of supply, Service Receiver की लोकेशन मानी जाती हैं| और इस धारा में यह भी दिया गया हैं कि अगर कोई भी दो शर्तें पूरी हो जाए तो Service Receiver की लोकेशन को इंडिया में माना जाएगा| इस धारा के अंश इस प्रकार हैं –

    Location of Service ReceiverInternet Advertisement in GST

    अगर हम इसको analyse करें तो इससे तो Adsense Earning के case में यही लगता हैं कि “place of supply” भारत के बाहर ही हैं और इस प्रकार Export of Service की यह शर्त भी पूरी हो रही हैं|

    इससे यह साफ़ हो रहा हैं कि Google Adsense के ज्यादात्तर मामलों में Bloggers या Youtubers का गूगल Adsense की सिंगापुर की कंपनी “Google Asia Pacific Pte. Ltd., Singapore” के साथ एग्रीमेंट होता हैं और उन्हें US डॉलर में पेमेंट रिसीव होता हैं इसलिए यह एक्सपोर्ट ऑफ़ सर्विस की सारी शर्तों को पूरा कर रहा हैं इसलिए इस पर टैक्स देने की आवश्यकता नहीं हैं|

    लेकिन आपको “export of service” क्लेम करने के लिए एक्सपोर्ट का प्रॉपर प्रोसीजर फॉलो करना पड़ेगा और जैसा की मैंने पहले बताया कि क्योंकि यह Inter-State सर्विस हैं तो आपको रजिस्ट्रेशन करके रिटर्न भी फाइल करने पड़ेंगे|

    ये तो था मेरा ओपिनियन| अब आते हैं उन पर जो दूसरे लोग कह रहे हैं –

    1. कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि इस मामले में ज्यादा Clearity नहीं होने के कारण डिपार्टमेंट बात में नोटिस issue कर सकता हैं और फिर आपको यह साबित करना पड़ सकता हैं कि कैसे यह Export हैं| अगर इस ओपिनियन की बात करू तो हाँ यह बात सही हैं कि डिपार्टमेंट कभी भी नोटिस जारी कर सकता हैं लेकिन टैक्स नोटिस तो अन्य मुद्दों पर जारी हो सकता हैं इसलिए आपको अपना Stand तो लेना ही पड़ेगा|
    1. कुछ लोगों का यह कहना हैं कि इस सर्विस में सर्विस रिसीवर वो एडवरटाइजर हैं जिनकी ad वेबसाइटों पर show होती हैं| इसलिए हो सकता हैं कि यह एक्सपोर्ट ऑफ़ सर्विस में न आये| लेकिन मुझे ऐसा नहीं लगता publisher का Advertiser के साथ कोई agreement नहीं होता और यहाँ तक कि उनको तो यह भी पता नहीं चलता कि उनकी साईट पर किस किस एडवरटाइजर की ad चल रही हैं|

    Disclaimer:  GST बहुत ही काम्प्लेक्स लॉ हैं और यह लेख केवल मेरा ओपिनियन हैं| इसे Legal Advise के रूप में नहीं माना जा सकता|

     

    Answered on June 30, 2017.

    मनीष जी आपने बहुत ही विस्तृत और उपयोगी जानकारी GST के बारे में बताई है. जो मुझ जैसे ब्लॉगर के लिए बहुत ही काम आएगी. इसके लिए आपका धन्यवाद.

    on August 20, 2017.
    Add Comment
    Hi all,
    Income made from Google AdSense is exempted from GST, so there are no need to pay any gst on adsense income but of If you’re using AdX ads, then you will have to pay 18% GST if your AdX supplier is located in India.
    I found this article as precise and specific where we can find solution to the applicability of GST on Indian Freelancers.
    https://gst.caknowledge.com/gst-google-adsense/
    The article has emphasised on 2 important points:-:
    ZERO Rated Supply
    Export of Service
    I think this shall be helpful in understanding the entire logic for GST for freelancers.
    Answered on February 19, 2018.
    Add Comment

    Your Answer

    By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.