GSTR-2 क्या हैं और इसे कैसे फाइल करें? GSTR-2 सबमिट करने की लास्ट डेट क्या हैं?

GSTR..2 KYA HAI AUR KAISE FILE KARE?  GSTR-2 Kise File Karna Padega? GSTR-2 File Karne Ki Last Date Kya Hai?

Add Comment
  • 1 Answer(s)

      GSTR-2 –

      GST का मतलब (Goods And Sarvices tax) वस्तु एवं सेवाकर होता है यह एक प्रकार का अप्रत्यक्ष कर है तथा जो व्यक्ति GST रजिस्ट्रेसन करवाता है उसे हर महीने ऑनलाइन GST रिटर्न फ़ाइल करने होते है| GST रिटर्न में व्यवसायी को अपने व्यवसाय की विभिन्न जानकारी देनी पड़ती है| इसमे व्यवसायी कोनसी सेवा या वस्तु बेच रहा है, उसकी महीने की कुल बिक्री कितनी है, उसका कुल क्रय कितना है तथा पेमेंट cash में कितना हुआ आदि सभी जानकारीया GST रिटर्न में दी जाती है|

      GSTR-2 जीएसटी में रिटर्न भरने की प्रक्रिया का एक हिस्सा है| GST में तीन तरह से रिटर्न भरा जाता है इसमे पहला GSTR-1 होता है जिसमे व्यवसाय की कुल बिक्री की जानकारी हर महीने जमा करवायी जाती है| GSTR-1 के बाद जो प्रक्रिया होती है वह GSTR-2 होती है इसमे व्यवसाय के पूरे महीने की कुल क्रय की जानकारी दी जाती है इसमे जिन सभी लोगों से माल क्रय किया है उन सभी का पूरा हिसाब GSTR-2 में दिखाया जाता है| GSTR-2 में महीने की सारी खरीदारियो की जानकारी भरकर जमा करवायी जाती है|

      और पढ़े- GST का इतिहास क्या है? GST का  सम्पूर्ण इतिहास बताएं?

      GSTR-2 फार्म भरने की प्रकिया –

      GSTR-2 फार्म भरने के हमे पांच steps को पूरा करना पड़ता है जो इस प्रकार से है –

      1. पहले step में सबसे पहले GST  पोर्टल की ओफिसियल वेबसाइट पर जाये, यह आपको GST portal के होम पेज पर पहुचाएगा|
      2. दूसरे step में अपने pasword और यूजर नेम की सहायता से login करिए आपके सामने dashboard होगा|
      3. तीसरे step में आपको ऊपर “service menu” पर क्लिक करना है उसे क्लिक करने पर GST Return Page खुलेगा|
      4. चोथे step में GST return page पर आपको सारे return की window दिखेगी उसमे आपको GSTR-2 सलेक्ट करिए| पूरा फार्म आपको 13 भागों में बंटा मिलेगा उसे पूरा भरना पड़ेगा|
      • सबसे पहले जीएसटीन नंबर भरना पड़ेगा|
      • अपने और अपने व्यवसाय का नाम भरना होगा जिस नाम से आपने लॉग इन किया है तथा जो व्यवसाय का नाम है उसे भरना पड़ेगा|
      • इस भाग में सिर्फ GST registered कारोबारियों के साथ की गयी खरीदारियो का ब्यौरा भरना पड़ता है|
      • इस भाग में उन खरीदारियो को भरना पड़ता है जिनके लिए आप सरकार को reverse GST भर चुके है|
      • इस भाग में उस सामान का ब्यौरा या जानकारी देनी पड़ती है जो आपने किसी विशेष स्थान या विदेश से मंगवाया है|
      • इस भाग में पहले के महीने या उससे पहले के महीने में जो खरीदारी की है उस में यदि कोई बदलाव किये है तो वो इस में दिखाना पड़ता है|
      • इस भाग में उन खरीदारियो की जानकारियो को दिखाया जाता है जो GST में कम्पोजीशन स्कीम लेने वाले कारोबारियों से की है|
      • इसमे आपको इनपुट सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर से मिली cash क्रेडिट का उलेख किया जाता है|
      • इसमे जो खरीदारियों पर TDS और TCS कटा है उसे दिखाया जाता है|
      • इस भाग में जो भी एडवांस भुगतान या एडवांस adjestment किये है उसका ब्यौरा देना पड़ता है|
      • इसमे रिवर्स इनपुट टैक्स क्रेडिट या क्लेम का ब्यौरा देना होता है|
      • यदि अपने पिछली किसी टैक्स देनदारी में कोई परिवर्तन किये है तो उसे इस भाग में देखाया जाता है|
      • इस भाग में व्यवसाय की सारी खरीदारियो का ब्यौरा HSN कोड के अनुसार देना होता है तथा जो टैक्स pay करता है उसी का द्वारा इसे भरना पड़ता है|
      1. इस step में आपको फार्म के नीचे अपने हस्ताक्षर करने पड़ते है कम्पनी को अपने डिजिटल signature करना जरुरी होता है|

      GSTR-2 को सबमिट करने की तारीख –

      GSTR-2 को अगले महीने की 15 तारीख तक जमा करवाया जाता है|

      Related Links-

      Answered on February 7, 2019.
      Add Comment

      Your Answer

      By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.