Hindi vs Hinglish – हिंदी में ब्लॉग्गिंग करें या हिंगलिश में

Dosto,mujhe ap logon se jankari chahiye ki…..Hindi vs Hinglish apko kaun sa jyda achha lagta hai and kyun..??? and aane wale future me achha kaun sa rahega..??

Waise rahi baat google ki wo hinglish blog ko bhi hindi hi manta hai and CPC hindi blog jaise hi hoti hai bas niche ka farak hai…jisase CPC up down hota hai..??

mera blog hai https://goldenveda.com/  blog ki traffic bhi achhi hai and ranking bhi…ut mera salwal yah hai ki better kaun sa rahega..???

kyunki hindi blog wale bhi blog title and url aakhir english me hi likhate hai….??

so anyone apne apne vichar de..!

 

 

Add Comment
  • 5 Answer(s)

      Hindi Vs Hinglish Blogging 

      अगर आप long term के लिए planning कर रहे है और अपने readers के लिए लिखना चाहते है तो हिंदी (देवनागरी) भाषा का ब्लॉग ही सबसे बेहतर है| लेकिन अगर आप short term में तेजी से पैसा कमाना चाहते है और सर्च इंजन के लिए लिखना चाहते है  तो hinglish अच्छा विकल्प है |

      देवनागरी लिपि के typing software का knowledge न होने के कारण लोगों की आदत hinglish में लिखना हो गई है | लेकिन लोगों को hinglish से ज्यादा हिंदी में पढना अच्छा लगता है क्योंकि hinglish में पढने के लिए आपको ध्यान से एक एक वाक्य को पढना होता है जिसमें यह भी नहीं पता चाह्लता कि वाक्य सही लिखा गया है या नहीं |

      Hinglish एक short term भाषा है जिसका कोई भविष्य नहीं है|

      Hinglish Blogging का जन्म शुरू में GOOGLE Adsense का हिंदी को support न करने के कारण हुआ क्योंकि तब google adsense हिंगलिश को इंग्लिश ही मानता था| जब Google Adsense  ने हिंदी को support किया फिर भी लोग हिंगलिश ब्लॉग बना रहे है क्योंकि आज भी उनकी google adsense cpc हिंदी ब्लोग्स से कहीं अच्छी है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि यह भविष्य में भी अच्छी रहनी है|

       

      गूगल का रुख – Google Search For Hindi

      हमें गूगल के हिंदी के प्रति रवैये को समझना अति आवश्यक है क्योंकि गूगल ही हिंदी bloggers के लिए सर्वोपरि है चाहे वो adsense के रूप में हो या सर्च इंजन के रूप में | पिछले एक साल से गूगल हिंदी कंटेंट को बढ़ावा देने के लिए नए नए तरीके आजमा रहा है | अभी हाल ही में गूगल ने हिंदी सर्च को बेहतर बनाने के लिए मोबाइल ब्राउज़र में एक नया प्रयोग किया है |

      जब हम मोबाइल ब्राउज़र में गूगल पर कुछ भी ऐसा सर्च करते है जिसमें हिंदी या हिंगलिश कीवर्ड है तो उसका रिजल्ट में “हिंदी में परिणाम देखे” का विकल्प आता है जिस पर क्लिक करने से देवनागरी फॉण्ट में लिखी पोस्ट टॉप पर show होती है | इसका सीधा सा मतलब यह है कि अब गूगल सर्च में “Hindi Vs Hinglish” और “हिंदी vs हिंगलिश” में ज्यादा फर्क नहीं रह गया है|

      इसका सीधा सा मतलब यह है कि गूगल देवनागरी लिपि को ही सर्च में दिखाना चाहता है | और सीधी सी बात है कि कोई भी सर्च इंजन यह नहीं चाहेगा कि उसके algorithm की वजह से कोई भाषा अपभ्रष्ट हो|

      ब्लॉग हिंदी में बनायें या हिंगलिश में

      सबसे बेहतरीन तरीका यह है कि आप अपने ब्लॉग को देवनागरी फॉण्ट में ही लिखे और बीच में बीच में अंग्रेजी कीवर्ड का उपयोग करें या तकनिकी शब्दों के लिए अंग्रेजी शब्दों का उपयोग करने इससे न केवल आपके रीडर्स खुश होंगे बल्कि आपको लॉन्ग टर्म में इसका फायदा मिलेगा | हो सकता है अभी आपकी cpc कम हो लेकिन मुझे लगता है कि हिंदी की cpc कुछ ही समय में जरूर बढ़ेगी |

      Answered on July 19, 2016.
      Add Comment

        hinglish chunna chahiye. kyonki google me sabhi hinglish me hi likhte hain 🙂

        Answered on July 20, 2016.
        Add Comment

          Agar CPC Ki Koi Problem Nahin hai to Hindi is the Best. But Hinghlish blog ki cpc jyada hai is vajah se jyadatar log hinglish ki taraf ja rahe ha. Lekin agar Reader ke point of view se dekhe to Sabse behatar Hindi Hai Bhai.

           

          All the Best

          Answered on July 11, 2016.
          Add Comment

            जो लोग हिन्दी भाषा अच्छी तरह से समजते हैं वह लोग हिन्दी “proper Hindi” ज़्यादा पसंद करेंगे। और देखने में भी वही बेस्ट लगती है। जहां तक CPC का सवाल है तो Hinglish ब्लॉग को गूगल एक अंग्रेज़ी भाषा के ब्लॉग की तरह ही treat करता है।

            अगर motive सिर्फ पैसा कमाना है, (तेज़ी से) तो Hinglish में कंटैंट तैयार करना बेस्ट option है। और अगर long term में reliable & regular traffic चाहते हैं तो Popper Hindi में ही blogging करनी best होगी।

            Remember – Google एक business minded company है, अगर Google को कभी भी लगा की popper हिन्दी या Hinglish उनके advertising network के लिए नुकसान कारक है, तो दोनों में से किसी को भी बैन करने में वह ज़्यादा टाइम नहीं लेंगे।

            1 – Tech Blogs है तो Hinglish बेस्ट है।

            2- motivation articles, bio, stories, etc पर ब्लॉग है तो Popper हिन्दी बेस्ट होगा।

            3 – High CPC & global  traffic चाहिए तो popper English is the best option

            Answered on July 12, 2016.
            Add Comment

              mk_happyhindi ji….thanks for yourinformation…maine hindi bhsha ka chayan kar liya hai….aap mere blog dekh sakte hai.??

              Answered on July 19, 2016.
              Add Comment

              Your Answer

              By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.