जीएसटी के इतिहास के बारे में जानकारी दीजिए – History of GST in India

GST India me sabse pahle koun laaya, kaise bharat me gst laya gya. GST se judi important dates or uski history bataiye.

Add Comment
  • 1 Answer(s)

      GST  का इतिहास – [History of GST]

      GST का पूरा नाम माल एवं सेवा कर है, यह एक प्रकार का अप्रत्यक्ष कर(Tax) है| वर्तमान  समय में लगभग 160 देश ऐसे है जिन्होंने किसी न किसी रूप में मूल्य वृद्धि कर (VAT) अथवा वस्तु एवं सेवा कर (GST) लागू किया है| विश्व में फ़्रांस वह पहला देश है जिसने वर्ष 1954 में पहली बार GST अपने देश में लागू किया| इसके पश्चात् न्यूजीलैंड ने वर्ष 1986 में इसे लागू किया| कनाडा ने पहले से प्रचलित निर्माण एवं बिक्री कर के स्थान पर वर्ष 1991 में वस्तु एवं सेवा कर लागू किया| सिंगापुर ने वर्ष 1994 में इसे लागू किया जबकि आस्ट्रेलिया ने वर्ष 2000 में फेडरल हॉलसेल टैक्स के स्थान पर वस्तु एवं सेवा कर लागू किया| मलेशिया में मूल्य वृद्धि कर को ही वर्ष 1925 में वस्तु एवं सेवा कर के रूप में लागू किया| इसके बाद विश्व के अनेक देशों ने वस्तु एवं सेवा कर को अपने – अपने देश में लागू किया|

      GST में Composition Scheme क्या हैं? कम्पोजीशन स्कीम की पूरी जानकारी दीजिये

      भारत में वर्ष 2000 से 2017 तक GST का सम्पूर्ण ढ़ाचा तेयार किया गया और अंत में 1 जुलाई 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जम्मू – कश्मीर सहित सम्पूर्ण भारत में लागू किया गया| GST में पांच प्रकार की कर दरे है जो निम्न है- 0%, 5%, 12%, 18% और 28% लेकिन अपवाद स्वरूप सोने(gold) और कीमती वस्तुओ पर 3% है|

      पहले केंद्र और राज्यों के अलग अलग कर होते थे लेकिन अब इन सभी का सन्निवेश GST में कर दिया गया है| देश में एक ही प्रकार का कर सभी जगह पर लागू करने से लोगों को कर भुगतान करने में आसानी होती है उन्हें अलग अलग तरह के करो का भुगतान नही करना पड़ता है| GST लागू करने से करदाताओ की संख्या में बढ़ोतरी हो गयी है, करदाताओ की संख्या 64 लाख से बढकर 70 लाख हो गयी है, जिसके कारण सरकार की आय भी लगभग 9000 करोड़ रूपये बढ़ गयी है| GST से सरकार, व्यापारियों, और मध्यस्थो को लाभ होगा परन्तु GST एक अप्रत्यक्ष कर है इसलिए इसका सम्पूर्ण कर भार उपभोक्ताओं पर पड़ेगा|

      Related Links-

      Answered on February 7, 2019.
      Add Comment

      Your Answer

      By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.