IPO क्या है? आईपीओ में निवेश कैसे करें? – What is IPO & How to Invest in IPO

IPO kya hota hai? IPO me invest karne ke kya fayde hai? IPO me invest karke good return kaise kamaye?

Asked on March 27, 2017 in Finance.
Add Comment
  • 4 Answer(s)

      प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (An initial public offering):

      IPO जनता के लिए किसी कंपनी द्वारा जारी किए गए कंपनी के शेयर की पहली बिक्री है। IPO आमतौर पर, छोटी कंपनियों द्वारा कारोबार विस्तारित करने के लिए पूंजी मांगते हैं, लेकिन बडी कंपनिया द्वारा भी सार्वजनिक रूप से कारोबार करने का प्रयास कर सकती हैं। आईपीओ में, जारीकर्ता को एक अंडरराइटिंग फर्म को हासिल करना होता है। एक अंडरराइटर एक बैंक या कई बैंक होते हैं, जो कंपनी के प्रॉस्पेक्टस को एक साथ रखती है जिसमें सर्वोत्तम पेशकश मूल्य, जारी किए जाने वाले शेयरों की मात्रा और बाजार में लाने का समय निर्धारित होता है।

      IPO एक ऐसी प्रक्रिया है जो निवेश के माध्यम से पूंजी सुरक्षित करने के लिए कंपनियां उपयोग करती हैं, भविष्य में इस निवेश का इस्तेमाल खरीद संपत्ति या कंपनी विस्तार या सुधार के लिए या निवेशकों को लाभांश प्रदान करने के लिए किया जाता है।

      भारतीय शेयर बाजार में आईपीओ में निवेश कैसे करें:
      वास्तव में शेयरों में निवेश करने के लिए अलगअलग तरीके हैं जैसेडिमेट खाता और दलाल या ऑनलाइन ट्रेडिंग अकाउंट।
      शेयरों या IPO में निवेश करने के लिए सबसे पहले आप के पास एक डीपी खाता और एक दलाल होना चाहिए जिसके माध्यम से आप स्टॉक एक्सचेंज में शेयर खरीद और बेच सकते है। आप ऑनलाइन ट्रेडिंग करना चुन सकते हैं जहां आपके पास एक ऑनलाइन ट्रेडिंग खाता होना चाहिए जिसके माध्यम से आप शेयरों की खरीद और बिक्री कर सकते है।

      IPO ट्रेडिंग के लिए विधि:-

      डिलिवरी ट्रेडिंग:

      डिलिवरी ट्रेडिंग में सभी शेयरों को खरीदने के दौरान ब्रोकरेज के साथ स्टॉक के संपूर्ण मूल्य के लिए भुगतान करना होता हैट्रेडिंग में आप किसी भी समय की सीमाओं से मुक्त हैं, आप जब चाहे तब आप आईपीओ को बेच या खरीद सकते है।

      डे ट्रेडिंग:

      डे ट्रेडिंग को मार्जिन ट्रेडिंग भी बुलाया जाता है, मार्जिन ट्रेडिंग में आप बाजार बंद होने से पहले स्टॉक खरीद सकते हैं या बेच सकते हैं। मार्जिन ट्रेडिंग में ब्रोकरेज कैश कम है और इसलिए आप अधिक लाभ कमा सकते हैं।

      डेरिवेटिव ट्रेडिंग:

      डेरिवेटिव ट्रेडिंग में दो तरीकों के माध्यम से किया जा सकता है – Future और Option आपको Future या Option अनुबंध में स्टॉक के कुल मूल्यांकन का एक हिस्सा देना पड़ता है। डेरिवेटिव ट्रेडिंग में स्टॉक भविष्य की तारीख में और एक विशिष्ट कीमत पर बेचने या खरीदने के लिए एक अनुबंध होता है

      कंपनी के लिए आईपीओ के फायदे:

      आईपीओ कंपनी के लिए विशाल विकास के लिए प्राथमिक कारक है। कंपनी के विस्तार के लिए पूंजी की आवश्यकताओं को पूरा करने, पूंजीगत साधनों को प्राप्त करने, नई परियोजनाओं के लिए फंड बनाने के लिए विकास प्राप्ति आईपीओ बढ़ाने में लाभदायक है

      आईपीओ कंपनी के बारे में सार्वजनिक प्रचार करने में कंपनी की मदद करता है क्योंकि ये निवेशकों को उनके उत्पादों के लिए प्रेरित करते हैं।

      एक आईपीओ कंपनी को विभिन्न कॉर्पोरेट परिचालन प्रयोजनों जैसे कि अनुसंधान और पूंजी, संयंत्र और उपकरण और विपणन के विस्तार, अधिग्रहण, विलय, और कार्यशील विकास करने के लिए धन जुटाने में मदद करता है।

      कंपनी निवेशकों को लाभांश देकर शेयर खरीदने के लिए प्रेतित करती है जिससे कंपनी की आर्थिक स्थिति अच्छी बनी रहती है

      Answered on April 15, 2017.
      Add Comment

        IPO क्या होता है – What is IPO?

        IPO का पूरा नाम Initial Public Offering होता है. अर्थात पहली बार जब कोई कम्पनी अपने शेयर पूजीं जुटाने के लिए बेचती है. तो इस प्रकिर्या को IPO कहा जाता है. IPOs को ज्यादातर नई कम्पनीयों द्वारा जारी किया जाता है. ये कम्पनिया शेयर बाजार में नई-नई सूचीबद्ध होती है. और ये लोगों से पैसा जुटाने के लिए अपने शेयर बेचती है. इस पूरी प्रक्रिया को IPO कहा जाता है.

        IPO मैं निवेश कैसे करें?

        IPO शेयर बाजरा से पैसा कमाने का अच्छा माध्यम होते है. कोई भी नया या अनुभवी शेयरधारक IPO को खरीदकर अच्छा मुनाफा कमा सकता है.

        आप IPO में निवेश शेयर खरीदने पर कर सकते है. जब कोई भी नई कम्पनी अपना IPO बाजार में लाती है तो वो पहले से इसके बारे में सूचना प्रकाशित करवाती है. इस सूचना में IPO के बारे में पूरी जानकारी कम्पनी द्वारा दी जाती है. या आप इस बारे में SEBI की Official Website पर जाकर भी जानकारी जुटा सकते है.

        दरअसल IPO को दो तरीके से खरीदा जाता है.

        1. Fixed Price
        2. Book Building

         

        Fixed Price IPO की एक कीमत पहले से ही तय कर दी जाती है. इसलिए इसके बारे में आप अपनी योजना बना सकते है. और अपनी आवश्यकता अनुसार शेयर खरीद सकते है.

        Book Building IPO में पहले से शेयर के दाम तय नही किए जाते है. इस प्रक्रिया में बोली लगाई जाती है. जो बोली सबसे महंगी होती है. उस दाम पर शेयर खरीद सकते है.

        Answered on April 14, 2017.
        Add Comment

          IPO is process through which a new company or a existing company offer their share to public for subsription.

          Add Comment

            IPO- Initial public offerings का अर्थ 

            कोई कंपनी जब अपने को शेयर बाज़ार में listed करा कर निवेशकों को के सामने  शेयर बेचने के लिए प्राथमिक प्रस्ताव लाती है तब उस प्रक्रिया को IPO – Indian Public Offerings कहेते हैं। कंपनी अपने कारोबार को बढ़ावा देने और दूसरे अन्य खर्चों को पूरा करने के लिए विविध तरीकों से रकम (फ़ंड) जुटाती  है। संक्षिप्त में कहा जाए तो पहली बार आम निवेशकों / लोगों के बीछ जब कोई company अपने शेयर उतारती है उसी public offer को IPO कहते  है॥

            IPO- Initial public offerings में निवेश कैसे करें 

            • IPO में निवेश करने के लिये बैंक अकाउंट, demate account और ट्रेडिंग अकाउंट खुलवा लें।
            • IPO भरने के लिये अपने ब्रोकर और किसी स्टॉक एक्सपेर्ट की सलाह लें।
            • किसी अच्छी company के IPO में अधिक लोग हिस्सा लेते हैं इस लिये स्टॉक मिलना मुश्किल होता है।
            • IPO application form अपने ब्रोकर या किसी अनुभवी IPO investor की मदद से भरें।
            • एक बार IPO भर दिया फिर स्टॉक लगे तो उन पर पार्ट प्रॉफ़िट मिल रहा हों तो उसे बूक करें और कुछ शेयर निवेशित ही रहने दें।
            • किसी IPO मे share / स्टॉक ना लगने की सूरत में डिपॉज़िट वापिस कर दिया जाता है।
            Answered on March 27, 2017.
            Add Comment

            Your Answer

            By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.