Jobs ज्यादातर भारतीय नौकरी क्यों करना चाहते है ??

Answered

    अभी हाल ही में उतर प्रदेश में चपरासी के 362 पदों के लिए 30 लाख आवेदन आये जिसमें से लाखों लोग अच्छे पढ़े लिखे थे, ऐसा क्यों हो रहा है ??

    Add Comment
  • 8 Answer(s)
      Best answer

      मैं आपकी बात से सहमत हूँ लेकिन मुझे एक बात बड़ी अजीब लगती है जो ज्यादातर नेता बोलते है हर कोई यह कह रहा कि

      “कृषि पर 50% से ज्यादा जनसँख्या निर्भर है जबकि कृषि का जीडीपी में योगदान बहुत कम है”

      और वे इसका समाधान यह बताते है कि

      “जनसँख्या को कृषि से स्थान्तरित होकर सेवा क्षेत्र और निर्माण क्षेत्र में आना चाहिए”

      हाँ यह बात सही है कि जनसख्या कृषि पर निर्भर है और कृषि का GDP में बहुत कम योगदान है लेकिन मुझे लगता यह समाधान नहीं हो सकता| आज कृषि घाटे का सौदा है तो इसके जिम्मेदार हम खुद है क्योंकि हमारे पढ़े लिखे नौजवान कृषि को कभी अपनाते नहीं और इस कारण कृषि में तकनीक का प्रयोग नहीं हो रहा |

      हमारे यहाँ सबसे बड़ी समस्या यह है कि लोग कृषि को नीची द्रष्टि से देखते है और इस कारण नौजवान इस क्षेत्र के विकास के लिए कुछ नहीं करते |
      मुझे ऐसा लगता है कि अगर कृषि और तकनीक का मिश्रण किया जाए तो कृषि सभी क्षेत्रों को पीछे छोड़ सकती है | और अगर ऐसा नहीं होता है तो शायद आने वाले 15 वर्षों में कृषि भारत से लुप्त हो सकती है

      Answered on September 30, 2015.
      Add Comment

        knuki most of the indian population is depended on agriculture  or agri. sector  main aajkal kafi loss hone lega hai bcz of  familys badi hone k karan jameen kam hone lag gai.. ptoudaction kam hone lag gaya bcz of bad pestisides and anorganic matter .. or job main fixed paisa milta hai or coruption karne ka bhi bhut c nokriyo main moka milta hai too log nokri wale logo ki taraf dekh kar aakarshit hotey hai  or bussiness main vo ja nhi saktey knuki most of them dont have money ….

        Answered on September 30, 2015.
        Add Comment

          मुझे लगता है कि अब भारतीयों को नौकरी का मोह छोड़ना चाहिए और उन्हें व्यवसाय और स्टार्टअप की तरफ आगे बढ़ना चाहिए | गर हर कोई नौकरी करेगा तो नयी नौकरियां कैसे पैदा होंगी | यह बड़ी दुःखदायी बात है कि हम लोग नौकरियों के पीछे अंधे हो रहे है जबकि अगर हम थोड़ी सी मेहनत करें तो हजारों संभावनाएं है |

          हम हमेशा सरकार और नेताओं की कमियां निकालते रहते है और सोचते है कि वे नई नौकरियां लायेंगे | सरकार कभी नई नौकरिया नहीं ला सकती  चाहे कितना भी अच्छा नेता क्यों न आ जाए रोजगार तो व्यवसाय ही देते है |

          Answered on September 30, 2015.
          Add Comment

            भारतीय समाज मे व्‍याप्त रूढ़िवादिता भी इसकी एक वजह है:
            हम जॉब द्वारा अपना स्टेटस दिखना चाहते हैं जो की एक मानसिकता बन चुकी है.
            नौकरी नही है तो वो आदमी किसी काम का नही, ऐसी लोगो की धारणा है.
            मा-बाप और समाज का दबाव कि बाकी सब जॉब कर रहे है, तुम क्यू नही.
            ये सोच की ज़िंदगी मे सबकुछ अच्छा कामना, खाना और रहन सहन से ही है.
            ज़िम्मेदारिया ढोने के लिए व्यक्ति का आर्थिक रूप से शशक्त होना बहुत ज़रूरी है.
            इत्यादि…

            Answered on October 10, 2015.

            Hi,

            I’ve added you Widget on my site:

            hindicreator.blogspot.in

            Kindly check this.

            on April 13, 2016.
            Add Comment

              Ham hindustaniyo ki mentality hi aisi bani huyi hai. Jab bachha chota hota hai to uske dimag me bachpan se hi bhar diya jata hai ki beta achhe se padhna. Ek din bada hokar bahut achhi post pe kaam karega.

              Ya kahte hain beta koi achha sa course kar le jisse aasaani se achhi naukri mil jayegi. Or ye baate bachhe ke dimag me bachpan se hi baith jati hai ki ek din bahut achhi naukri karunga. Or fir wah sirf achhi naukri ke sapne dekhna shuru kar deta hai.

              Answered on January 16, 2016.
              Add Comment

                Kyonki jyadatar log risk lena nahin chahte.

                Answered on December 25, 2015.
                Add Comment

                  Job me koi risk nhi hai or na hi jyada capital invest karna padta hai, business me jyada risk or capital ki v zarorooth v hota hai

                  Answered on March 20, 2018.
                  Add Comment

                    kyunki bharat ke log apne pariwar ko chodke nahi jyana chahte to wo log yahi pe apni naukri karna pasand karte he.

                    Answered on August 21, 2018.
                    Add Comment

                    Your Answer

                    By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.