प्रधानमंत्री मुद्रा योजना क्या है, उससे जुडी सम्पूर्ण जानकारी दीजिए?

Pradhanmantri Mudra Yojana Kya Hai aur Isake Niyam/Rules Kya Hai? Mudra Bank Yojana Me Loan Lene Ki Kya Process Hai? Mudra Yojana me interest rates kya kya hai? Mudra Yojana Ke Kya Benefits hai? Mudra Yojana Me Loan Ke Liye Kaise Apply Kare?

Add Comment
  • 3 Answer(s)
      Best answer

      प्रधानमंत्री मुद्रा योजना – PM MUDRA Yojana 

      प्रधानमंत्री मुद्रा योजना जिसका पूरा नाम माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड है, की शुरुवात 8 April 2015 में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई थी| PM मुद्रा योजना का मुद्रा ऋण देश के गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यापारों के वित्त जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार का उपक्रम है। इसके पीछे का भाव यह है की छोटे से व्यवसाय के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना जो की भारतीय कामकाजी आबादी में बहुमत को रोजगार प्रदान करता है।

      अपने शुभारम्भ से लेकर अब तक प्रधानमंत्री MUDRA योजना (PMMY) या मुद्रा (माइक्रो इकाइयों विकास पुनर्वित्त एजेंसी) बैंकों में, केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री MUDRA योजना के तहत अब तक Rs.24,000 करोड़  देश भर में वितरित कर दिए गए हैं।

      मुद्रा लोन के बारे में – About Mudra Loan

      PM मुद्रा ऋण योजना के तहत सरकार ने एक 3-स्तर ऋण संरचना को  विभिन्न व्यवसायों की ओर लक्षित करते हुए उनके विस्तार और उनके व्यापर के स्तर के आधार पर विभाजित किया है। इस योजना के तीन स्तरों हैं:

      यह योजना (मुद्रा) के तहत ऋण के तीन प्रकार हैं:

      • शिशु: 50,000/ – रुपये तक के ऋण को कवर करता है
      • किशोर: 50,000 / – रुपये के ऊपर और 5 लाख रूपए तक ऋण को कवर करता है
      • तरुण: 5 लाख रूपये से ऊपर और 10 लाख रुपये तक के ऋण को कवर करने के लिए

      शिशु ऋण को स्टार्टअप के लिए डिज़ाइन किया गया है जबकि किशोर ऋण को कारोबार, जो पहले से ही शुरू कर दिए जा चुके हैं और खुद को स्थापित करने के लिए वित्तीय मदद चाहते हैं उनके लिए डिज़ाइन किया गया है। तरूण ऋण उन व्यवसायों के लिए है जो पहले से ही स्थापित हैं, लेकिन कारोबार के विस्तार के लिए वित्तीय सहायता चाहते हैं ।

      वर्तमान में मुद्रा योजना के तहत ऋण निम्नलिखित द्वारा दिए जा रहे हैं:

      • 27 पब्लिक बैंकों द्वारा
      • 17 निजी बैंकों द्वारा
      • 31 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों द्वारा
      • 4 सहकारी बैंकों द्वारा
      • 36 माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं द्वारा
      • 25 गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं द्वारा

       

      मुद्रा योजना का उद्देश्य – Objectives of Mudra Yojana

      • मुद्रा की स्थापना का मुख्य उद्देश्य गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यवसायों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना है। भारत सरकार ने पहले ही कई योजनाएं शुरू की है जो छोटे व्यवसायों के लिए वित्तीय और तकनीकी सहायता प्रदान करती हैं। मुद्रा एक तरह से देश के सूक्ष्म क्षेत्र का समर्थन करने के लिए है।
      • खाद्य सेवा, कारीगरों, विक्रेताओं और शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में मुद्रा द्वारा बढ़ाया जाएगा दोनों अन्य सूक्ष्म व्यवसायों की तरह छोटे व्यवसायों को सहायता प्रदान कर रहा है ।
      • मुद्रा आम लोग के साथ वित्तीय संस्थानों कनेक्ट करेगा जो की अपने सूक्ष्म उद्यमों के लिए जिनको ऋण की जरूरत होती है ।

      यदि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना को अच्छी तरह से लागू किया जायेगा, तो यह निश्चित रूप से इन छोटे व्यापार मालिकों जैसे कई लोगों के लिए एक वरदान साबित हो सकता है|

      मुद्रा योजना ऋण लेने के लिए योग्यताए – Eligibility for MUDRA Loan 

      सभी गैर-खेती सूक्ष्म व्यवसाय जो आय सृजन और 10 लाख तक या उससे अधिक आर्थिक सहायता की जरूरत हो वे इस ऋण के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंदर आवेदन कर सकते हैं जो की माइक्रो यूनिट डेवलपमेंट और रिफिनांसिंग एजेंसी स्कीम के अंतगर्त शुरू की गई है। भाग लेने वाले बैंक, अर्थात् बैंक जो कि मुद्रा ऋण की देने के लिए तैयार हैं उनके सख्त पात्रता मानदंड है। उन सभी को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है की:

      • बैंक के पास 3 साल के सीधे लाभ रिकॉर्ड है।
      • उनके पास 3% या 3% से कम एनपीए है।
      • कम से कम 9% की सीआरएआर है। और
      • शुद्ध संपत्ति के तौर पर कम से कम 100 करोड़ रुपए होने चाहिए|

      जब तक इन आवश्यकताओं को बैंकों और गैर-बैंकिंग कंपनियों द्वारा पूरा नहीं किया जायेगा, वे किसी को MUDRA ऋण देने के योग्य नहीं होगा। Mudra Loan कौन ले सकता है?

       

      लोन लेने की विधि – Method for MUDRA Loan

      मुद्रा ऋण निकालने के लिए, एक आवेदक (अर्थात् एक उधारकर्ता) को पहले ऋण देने वाले अपने या अपने निकटतम बैंक की पहचान करनी होगी और अपनी व्यापार की योजना के साथ व्यक्तिगत रूप से बैंक जाना होगा। ऋण आवेदन को एक व्यापक व्यापार की योजना, पहचान पत्र, एड्रेस प्रूफ और पासपोर्ट तस्वीरों के साथ जमा करना होगा। एक बार सभी डॉक्यूमेंटेशन पूरी हो जाने के बाद, बैंक व्यापार की योजना और जरूरत की समीक्षा करेंगे। स्वीकृत होने पर,  बैंक से ऋण मंजूर होगा।

      Mudra Yojana Interest Rates –

      मुद्रा योजना में ब्याज दर सभी बैंक में अलग अलग है तो इसलिए आप दिए गए link से सभी Banks की अलग अलग Mudra Yojana Interest Rates का पता लगा सकते है|

      मुद्रा योजना की मुख्य विशेषताएं – MUDRA Yojana Key Features

      • माइक्रो यूनिट विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी लि. लोकप्रिय रूप में मुद्रा सूक्ष्म भारत सरकार द्वारा व्यापार का समर्थन करने के लिए गठित की गयी है। यह एक पुनर्वित्त एजेंसी है और एक प्रत्यक्ष वित्तीय संस्था नहीं है।
      • मुद्रा एक साझा मंच है, जहां इस तरह वित्तीय संस्थानों जैसे बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों, एमएफआई, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियाँ जो उनकी सूक्ष्म और लघु उद्यमों की स्थापना के लिए तैयार हैं आवेदकों को मिलेंगे।
      • इसको वित्त वर्ष 2016 के बजट घोषणा के दौरान स्थापित किया गया है और भारत के वित्त मंत्री द्वारा घोषणा की गई थी।
      • यह केवल उन उद्यमों को जो गैर कॉर्पोरेट छोटे व्यावसायिक क्षेत्रों के हैं उन्हें करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगा। इन क्षेत्रों के तहत एकमात्र प्रोप्रिएटर्स, साझेदारी फर्म, निर्माता, मशीनरी व्यापार और कई और कई अधिक को माना जा सकता है।

      सहायता की स्वीकृति संबंधित ऋण संस्था की योग्यता मानदंडों के अनुसार दी जाएगी। ऋण छोटे व्यापार की गतिविधियों / सूक्ष्म उद्यम शुरू करने के लिए जारी किया जाएगा| इन ऋण संस्थाओं को फिर वित्तीय सहायता के लिए मंजूर ऋण की पुनर्वित्त के लिए MUDRA बैंक जाना होगा|

      मुद्रा योजना Application Form –

      आप मुद्रा योजना आवेदन फॉर्म यहाँ से जाकर डाउनलोड कर सकते है – Mudra Loan Form

      मुद्रा स्कीम के लिए जरुरी डाक्यूमेंट्स –

      आप link पर जाकर मुद्रा योजना से जुड़े सभी जरुरी Documents की जानकारी प्राप्त कर सकते है|

      Related Questions –

      Answered on June 24, 2019.
      Add Comment

        प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना – Full Information in HIndi

        मुद्रा योजना का विस्तृत अर्थ माइक्रो यूनिट डेवलोपमेंट री-फाइनेंस एजेंसी” (Micro Units Development Refinance Agency) होता है, जिसे संक्षिप्त नाम MUDRA YOJANA दिया गया है| इस कल्याणकारी योजना का स्थापना दिवस  8 April 2015 है| MUDRA YOJANA को प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना  के नाम से भी जाना जाता है, (वैबसाइट – http://www.mudra.org.in)

        नरेन्द्र मोदी जी छोटे उद्योग / कुटीर उद्योग उन्नति का महत्व भली भांती जानते है, इसीलिये उन्होने MUDRA YOJANA / प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना को शुरू किया है, ताकि देश के आम आदमी, गरीब आदमी, ज़रूरतमंद आदमी को नया उद्योग शुरू करने मे, या अपने वर्तमान उद्योग / व्यापार को ज़्यादा शक्तिशाली, सक्षम बनाने के लिये मदद मिल सके|

        सामान्य परिस्थिति मे एक आम आदमी LOAN लेने के उद्देश्य से अगर बैंक का दरवाजा खटखटाता है तो उसके सामने एक बड़ी विकट समस्या होती है, guaranty देने की, यानी के अगर LOAN लेने वाला अगर किसी अवस्था मे किश्तें (installment) ना भर सके तो guarantor भरपाई करे, या फिर बैंक LOAN देने के लिये आवेदक (applicant), बैंक के पास अपनी सम्पति (property) गिरवी रखे, तभी बैंक LOAN देने के लिये राजी होता है| पर प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना के अंतर्गत बिना किसी guaranty के  10 लाख (Ten Lakh) तक की मुद्रा सहायता (LOAN HELP) का प्रावधान है| आवेदक (LOAN applicant) की कुशलता, उद्योग का प्रकार और उद्योग की ज़रूरत (cash requirement) को ध्यान मे रखते हुए LOAN sanction होगा या नहीं यह निर्णय लिया जाता है|

        यह पोस्ट, प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना की सम्पूर्ण जानकारी और मुद्रा बैंक योजना के अंतर्गत  LOAN लेने के लिये जरूरी तैयारी के बारे मे है, कृपया सारे मुद्दे ध्यान से पढे|

         

        प्रधानमंत्री मुद्रा योजना लोन श्रेणियाँ – Categories of Mudra Yojana Loan

        शिशु loan scheme – इस category मे INR 50,000-00 rupee तक की लोन सहायता दी जाती है,

        किशोर loan scheme – इस category मे INR 50,000-00 rupee से INR 5,00,000-00 rupee तक की लोन सहायता दी जाती है,

        तरुण loan scheme – इस category मे INR 5,00,000-00 rupee से ले कर INR 10,00,000-00 rupee से तक की लोन सहायता दी जाती है|

         

        मुद्रा योजना के फायदे और ब्याज दर – Interest rate and Benefits of Mudra Yojana

        Check – Bank Wise Interest Rates

        सामान्यत: Interest rate 12% per annum के करीब | अलग अलग बैंक में रेट अलग हो सकते है|

        किसी तरह की process fees नहीं,

        कोई गारंटी की ज़रूरत नहीं,

        LOAN repayment 5 years (60 tenure),

        Banks के द्वारा मुद्रा cards की सुविधा, “RUPAY” (accepted in all ATM’s)

        (Note – सरकारी और private banks के interest rates अलग अलग हो सकते है)

         

        मुद्रा योजना के अंतर्गत लोन के लिये कहाँ संपर्क करे – Where To Contact for Mudra Yojana Loan

        प्रधान मंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत ज़्यादा जानकारी लेने और लोन सहायता पाने के लिये अपने नजदीकी बैंक शाखा पर संपर्क करे, और अलग अलग शहरो और गाँव मे मुद्रा योजना से गठबंधित banks के लिस्ट की जानकारी के लिये नीचे बताए वैबसाइट पर logon करे या  वैबसाइट के नीचे बताए गये mail address पर संपर्क करे|

        Mudra Yojana Website – Helpline

        Website – www.mudra.org.in (ताज़ा update / information प्राप्त करने के लिये)

        Mail – [email protected] ( इस योजना के बारे मे किसी भी प्रकार की information के लिये)

        National Helpline Numbers For प्रधान मंत्री मुद्रा योजना

        Call – 1800 180 1111    call – 1800 11 0001

        Download application forms for Mudra Yojana / प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना loan

        Mudra loan Shishu scheme Application form Link

         

        मुद्रा योजना के अंतरगत कौन लोन ले सकता है – Eligibility Apply for MUDRA YOJANA loan

        सर्व प्रथम तो मुद्रा बैंक योजना से लोन लेने वाला भारत का नागरिक होना चाहिये| प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना से लोन प्राप्त करने की चाह रखने वाला आवेदक उत्पादन (manufacturing ), व्यापार (business), सेवा (service) क्षेत्र से जुड़े भारतीय नागरिक होना चाहिये| किसान भाइयो का खेती उद्योग इस योजना के अंतर्गत समाविष्ट नहीं है, पर सब्जी तरकारी और फल फ्रूट के व्यापारी अवश्य इस योजना से लाभ ले सकते है|

         

        मुद्रा योजना के लिए आवेदन – Apply for MUDRA YOJANA

        Step-1 Document preparation – कागजात तैयार करना

        1 identity proof – पैन कार्ड / ड्राइविंग लाइसेंसे, वोटर id, आधार कार्ड, पासपोर्ट॰

        2 residence proof – last लाइट बिल, फोन बिल, आधार कार्ड, प्रॉपर्टि पपेर्स, प्रॉपर्टि Tax पपेर्स॰

        3 cast proof – GENRAL / SC / ST / OBC / Minority cast

        4 Proof of business / service (which you Appling loan for)- आवेदक के अपने उद्योग / सेवा  की जानकारी जिस के लिये खुद applicant लोन लेना चाहते है (Explanation – ऐसे कागजात जो की आवेदक के उद्योग पर का मालिकाना हक़ साबित करे, उद्योग की जगह का लाइट बिल, उद्योग का परवाना / license etc…)

        5 applicant’s bank account statement (Last six month)- आवेदक के बैंक खाते का आखरी छ: महीने का ब्योरा

        (Note-Internet से download किया हुआ नहीं, proper bank पे जा कर या बैंक से certified कराया हुआ ब्योरा),

        6 proof of income (statement of balance sheet)- आखरी दो साल के income tax return papers (Note – आवेदक दो लाख या फिर उस से ज्यादा लोन लेना चाहते है तभी ज़रूरी),

        7 Passport size two color photographs of applicant / partners / directors – दो फोट्स आवेदन कर्ता / भागीदारों / डायरेक्टर्स के

        8 last year’s sales report of current business – मौजूदा उद्योग की बिकरी (sales) का ब्योरा – आखरी साल का यानी के आवेदन देने की तारीख से पहेले का ब्योरा|

        9 project report – applicant जिस उद्योग / व्यापार / व्यवसाय के हेतु LOAN ले रहे है, उसमे कहाँ  किस संसाधन की आवश्यकता है, लोन लेने से कितना अंदाजन (approx) मुनाफा होगा, और applicant कहाँ से सारे संसाधन (equipment) और सामाग्री (goods) खरीदना चाहेंगे, इन सब चीजों पर एक विस्तृत project तयार कर के documents के साथ submit करना होता है,

        10 Memorandum and articles of association of the company/Partnership Deed of Partners etc. – भारतीय कंपनी धारे के मुताबिक registered कंपनी के सारे भागीदारों की भागीदारी का agreement (Note –केवल कंपनी या साझेदारी फर्म के लिए),

        11 Statement of asset & liability – यह लोन आवेदक (applicant) और आवेदक कंपनी companies को बिना guaranty मिलता है, इस लिये individual applicant और company applicant को मिल्कियत और ज़िम्मेदारी का ब्योरा देना आवश्यक होता है,

        (Note – सिशु, किशोर, तरुण, इन अलग अलग categorized Loan के documents list की सटीक इन्फॉर्मेशन के लिये (वैबसाइट- http://www.mudra.org.in) या फिर mail- [email protected] पर संपर्क करे, normally ऊपर list मे mention किये documents मांगे जाते है)

         

        Step 2 – Application & documents & project bank मे submit करना

        दूसरे चरण मे applicant को अपने नजदीकी बैंक पर जा कर सुनिश्चित करना होता है के क्या वह bank मुद्रा योजना कार्यक्रम से जुड़ा हुआ है या नहीं| और अगर है तो वहाँ अधिकारी से appointment ले कर अपने सारे documents यानी ऊपर लिस्ट मे बताये documents की एक file तयार कर के दिखानी होगी,

        अगर बैंक applicant के बताये हुए documents से संतुष्ट होता है, तो आगे की कार्यवाही शुरू कर देता है, यानी के आप के loan के forms भरवाना, आप के दिये प्रोजेक्ट को approval के लिये आगे भेजना, banking नियम के मुताबिक commitment agreement तैयार करना आदि|

        और LOAN पास होने पर banks आवेदक को disbursement amount का check दे देती है जो आवेदक के बैंक खाते मे जमा किया जाता है, ताकि आवेदक अपने उद्योग / व्यापार के लिये राशी खर्च कर सके, और अगर आवेदक ने अपने प्रोजेक्ट मे कोई बड़ी machinery या equipment की मांग की होगी, तो उसके लिये आवेदक को cash नहीं दिया जायेगा direct seller को भुगतान किया जायेगा, (Note- bank मे applicant को project submit करते समय चीज़ों (goods)  और यंत्र (machinery) को कहाँ से खरीदना है उस company/factory/ trading shop का quotation देना पड़ता है, और check भी उसी party के नाम पर issue होता है),

        और अगर applicant के documents और दर्शाया गया उद्योग / व्यापार project बैंक को सही नहीं लगता तो bank application नामंज़ूर भी करने का अधिकारी होता है, और project या documents मे कोई छोटी मोटी त्रुटि हो तो bank ही applicant को मार्गदर्शन दे कर उसे ठीक करवा कर LOAN की मंजूरी दे देता है|

         

        चेतावनी – Warning

        फर्जी documents पर सरकार से LOAN लेना, गलत जानकारी सरकार को देना, सरकारी कर्ज़ गैर इरादतन वापिस ना करना या लोन के पैसो का दूसरी जगह उपयोग करना, यह सब कानूनन अपराध है, जिस के लिये आवेदक को जुर्माने से जेल तक हो सकती है, और आगे भविष्य मे किसी भी सरकारी संस्था मे नौकरी मिलने, और banks से LOAN / कर्ज़ मीलने की संभावना खतम हो जाती है, कृपया सरकारी सहायताओ का दुरुपयोग ना करे|

        Read First – किन कारणों से मुद्रा लोन नहीं मिलता है?

         

        निष्कर्ष – Conclusion

        MUDRA YOJANA / प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना से देश का युवा वर्ग देश मे ही उद्योग / व्यापार कर के रोजगार कमा कर आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनेगा, और विदेश जाने की बजाये देश मे काम कर देश के विकास मे हाथ बढ़ाएगा, मुद्रा बैंक योजना कार्यक्रम सफल बनाने के लिये अंदाजन 27 पब्लिक सैक्टर banks, 17 privet sector, और 27 ग्रामीण सहायक banks और 25 micro finance संस्थाओ से सरकार ने हाथ मिलाया है, यह आकडे आनेवाले दिनो मे बढ़ भी सकते है|

        MUDRA YOJANA / प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना की सहायता पाने से आम लोग जब आर्थिक सक्षम होंगे तो उनकी आय बढ़ेगी, और आय बढ़ेगी तो जाहीर है सरकार को भी टैक्स के रूप मे income ज़्यादा होगी, और देश आगे बढ़ेगा,

        MUDRA YOJANA / प्रधान मंत्री मुद्रा बैंक योजना भारत के नये उद्योग साहसी और मौजूदा व्यापारी / व्यवसायी लोगो के लिये वरदान समान है, जिससे बिना guaranty लोन सहायता दी जाती है, अगर आवेदन करता के पास कोई हुनर है, और अपने हुनर को लोन के रूप मे आर्थिक मदद ले कर नये आयाम पर ले जाना चाहता है, तो इस योजना का लाभ अचूक लेना चाहिये|

        Answered on June 20, 2019.
        Add Comment

          PM Mudra Yojana –

          प्रधानमंत्री मुद्रा योजना मुद्रा बैंक के तहत भारतीय योजना है जिसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरन्द्र मोदी ने 8 अप्रैल 2015 को नई दिल्ली में की थी। मुद्रा शब्द Micro Units Development and Refinance Agency की संक्षिप्त रूप है। इस योजना के तहत 10 लाख रुपए तक का लोन प्रदान किया जाना है। देश में नए उद्यमियों के रूप में छोटे संगठनों, कंपनियों और Startups की संख्या बढ़ रही है।

          इन्हें सूक्ष्म इकाई माना जाता है। यह महसूस किया गया है कि इन इकाइयों में वित्तीय समर्थन में कमी है। यदि इन्हें वित्तीय सहायता प्रदान की जाए तो उनका विकास हो सकता है। मुद्रा बैंक के तहत तीन श्रेणियां है -शिशु, किशोर और तरुण। शिशु शुरुआती श्रेणी है। वे सभी व्यापार जो अभी-अभी शुरू हुए हैं और लोन के लिए देख रहे हैं इस श्रेणी में आते हैं।

          इस श्रेणी में 50,000 रुपए तक का लोन दिया जाएगा। इसमें ब्याज दर 10 से 12 प्रतिशत तक की रेंज में है। किशोर श्रेणी उनके लिए है जिन्होंने अपना कारोबार शुरू किया है और अब वह प्रतिष्ठित हो रहा हैं। इस श्रेणी में आने वाली यूनिट्स के लिए 50,000 रुपए से लेकर 5 लाख रुपए तक का लोन देने का प्रावधान है। ब्याज दर 14 से 17 प्रतिशत तक की रेंज में है। तरुण श्रेणी के अंतर्गत सभी छोटे कारोबार जो स्थापित होकर प्रतिष्ठित हो गए हैं। इन्हें 10 लाख रुपए तक का लोन दिया जा सकता है। ब्याज दर 16 प्रतिशत से शुरू होती है।

           

          Answered on June 20, 2019.
          Add Comment

          Your Answer

          By posting your answer, you agree to the privacy policy and terms of service.